Headline
दिल्ली आबकारी नीति घोटाला : बीआरएस नेता के कविता ने दिल्ली की अदालत से जमानत मांगी
टुकड़े-टुकड़े गैंग का नेतृत्व करने वाले लोग दिल्ली वालों के प्रति कितने जिम्मेदार होंगे- मनोज तिवारी
आप नेताओं को जेल भेजने से उनका मनोबल और मजबूत हुआ : संजय सिंह
केजरीवाल की याचिका पर ईडी को नोटिस, सुप्रीम कोर्ट 29 को करेगा अगली सुनवाई
मणिपुर के मुख्यमंत्री को क्यों बर्खास्त नहीं किया गया : कांग्रेस
पीएम मोदी का राहुल पर तंज कहा- यूपी में खानदानी सीट बचाना मुश्किल हुआ तो केरल में बनाया नया ठिकाना
सतुआन पर सुलतान पोखर में दर्जनों बच्चों का हुआ मुंडन संस्कार
‘भाजपा के घोषणा पत्र में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी को हटाने का जिक्र नहीं’, तेजस्वी यादव का दावा
रीवा में 44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान

स्वाती मालीवाल पहुंचीं मणिपुर, सोमवार को दोनों विरोधी गुटों से अलग-अलग करेंगी बात

इंफाल, 23 जुलाई: दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल रविवार को मणिपुर की राजधानी इंफाल पहुंचीं। वह यहां वह हिंसा की शिकार युवतियों और लड़कियों से मुलाकात करेंगी। मालीवाल ने कहा कि सोमवार को वह दोनों विरोधी गुटों के प्रतिनिधियों के साथ अलग-अलग बैठक करेंगी।

मालीवाल रविवार सुबह इंफाल हवाई अड्डे पर उतरने के बाद पत्रकारों से बातचीत में मणिपुर सरकार निंदा की। उन्होंने कहा कि मणिपुर सरकार ने उन्हें राज्य में आने की इजाजत नहीं दी। इसके अलावा सरकार यौन हिंसा की शिकार महिलाओं से संपर्क की अनुमति नहीं देना चाहती थी। उन्होंने कहा कि मणिपुर में हुई संगठित सांप्रदायिक हिंसा ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। इस संदर्भ में उन्होंने पीड़ितों के पक्ष में खड़े होने और उन्हें सहायता प्रदान करने की इच्छा व्यक्त की।

मालीवाल ने कहा कि दुखद वीडियो देखने के बाद उन्होंने 21 जुलाई को मणिपुर सरकार से संपर्क किया और संघर्षग्रस्त मणिपुर आने और पीड़ितों से मिलने की इच्छा व्यक्त की, लेकिन राज्य सरकार ने कहा कि कानून-व्यवस्था के कारण इस समय उन्हें मणिपुर आने की इजाजत नहीं दी जा सकती। इसके बाद उनके दोबारा संपर्क करने पर सरकार ने आज 23 जुलाई को उन्हें मणिपुर आने की इजाजत दी।

आज वह इंफाल में कुछ महिला संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगी और उनकी बातें सुनेंगी। दिल्ली महिला आयोग प्रमुख मालीवाल ने कहा कि कल उनका दोनों परस्पर विरोधी गुटों के प्रतिनिधियों के साथ अलग-अलग बैठक करने का कार्यक्रम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top