Headline
पीएम मोदी का राहुल पर तंज कहा- यूपी में खानदानी सीट बचाना मुश्किल हुआ तो केरल में बनाया नया ठिकाना
सतुआन पर सुलतान पोखर में दर्जनों बच्चों का हुआ मुंडन संस्कार
‘भाजपा के घोषणा पत्र में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी को हटाने का जिक्र नहीं’, तेजस्वी यादव का दावा
रीवा में 44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान
भोजपुरी स्टार खेसारी यादव ने शेयर किया अपने अपकमिंग सॉन्ग ‘पातर तिरिया’ का पोस्टर
शाहिद व ईशान ने शेयर की अपने ‘संडे वर्कआउट’ की झलक
एक्‍ट्रेस अनीता हसनंदानी के 43वें जन्मदिन पर पति ने लिखा प्‍यार भरा नोट
एलआईसी को अडाणी के शेयरों में निवेश पर हुआ 59 प्रतिशत का लाभ
आंबेडकर की जयंती पर आप नेताओं ने पढ़ी संविधान की प्रस्तावना

सुप्रीम कोर्ट शिवसेना चुनाव चिन्ह विवाद पर 31 जुलाई को सुनवाई करेगा

नई दिल्ली, 10 जुलाई : उच्चतम न्यायालय महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे धडे को शिवसेना और चुनाव चिन्ह ‘तीर-धनुष’ की मान्यता देने संबंधी चुनाव आयोग के फैसले को चुनौती देने वाली पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की याचिका पर 31 जुलाई को सुनवाई करेगा।

मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति पी एस नरसिम्हा की पीठ ने सोमवार को श्री ठाकरे की गुहार पर उनकी याचिका पर 31 जुलाई को सुनवाई के लिए के लिए सहमति व्यक्त करते हुए मामले को सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया।

शीर्ष अदालत के समक्ष शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता उद्धव ठाकरे के पक्षकार अधिवक्ता ने विशेष उल्लेख के दौरान मामले महत्वपूर्ण बताते हुए इस पर शीघ्र सुनवाई का अनुरोध किया।

चुनाव आयोग ने 17 फरवरी 2023 को श्री शिंदे धडे को वास्तविक शिवसेना के तौर पर मान्यता देने के साथी पार्टी का चुनाव चिन्ह धनुष और तीर उन्हें इस्तेमाल करने की मंजूरी दी थी।

चुनाव आयोग ने अपने फैसले श्री ठाकरे घड़े को शिवसेना (बाला साहब ठाकरे) और चुनाव चिन्ह के तौर पर ‘जलती मशाल’ इस्तेमाल करने की अनुमति दी थी।

गौरतलब है कि इससे पहले मुख्य न्यायाधीश चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने तब चुनाव आयोग के आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top