Headline
सतुआन पर सुलतान पोखर में दर्जनों बच्चों का हुआ मुंडन संस्कार
‘भाजपा के घोषणा पत्र में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी को हटाने का जिक्र नहीं’, तेजस्वी यादव का दावा
रीवा में 44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान
भोजपुरी स्टार खेसारी यादव ने शेयर किया अपने अपकमिंग सॉन्ग ‘पातर तिरिया’ का पोस्टर
शाहिद व ईशान ने शेयर की अपने ‘संडे वर्कआउट’ की झलक
एक्‍ट्रेस अनीता हसनंदानी के 43वें जन्मदिन पर पति ने लिखा प्‍यार भरा नोट
एलआईसी को अडाणी के शेयरों में निवेश पर हुआ 59 प्रतिशत का लाभ
आंबेडकर की जयंती पर आप नेताओं ने पढ़ी संविधान की प्रस्तावना
भाजपा ने लोकसभा चुनावों का संकल्प पत्र ‘मोदी की गारंटी 2024’ जारी किया

शिक्षा विभाग के निर्देश पर सेवा मुक्त होंगे आठ कॉलेजों के 65 शिक्षक

पटना, 12 अगस्त : शिक्षा विभाग के निर्देश के बाद बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर बिहार विश्वविद्यालय के आठ कॉलेजों के 65 शिक्षकों को सेवा मुक्त किया जाएगा। विश्वविद्यालय के कुलसचिव (रजिस्ट्रार) प्रो. संजय कुमार ने इस आदेश से जुड़ा पत्र जारी किया है।

जारी पत्र के अनुसार इन कॉलेजों में लगातार अनुपस्थित रहने की वजह से 65 शिक्षकों को सेवा मुक्त किया जायेगा। इनके साथ 35 शिक्षकेत्तर कर्मी भी हटाये जायेंगे। हटाये जाने वाले कॉलेजों के शिक्षकों में सीतामढ़ी के बैरगनिया स्थित प्रिया रानी डिग्री कॉलेज के 23 शिक्षक और 17 शिक्षकेतर कर्मियों को बर्खास्त करने का निर्देश दिया गया है।

कुलसचिव के अनुसार शिक्षा विभाग के निर्देश पर चिह्नित किए गए कॉलेजों के प्राचार्यों को पत्र भेजा गया है। इसमें गायब रहने वाले शिक्षकों पर अनुशासनिक कार्रवाई कर 20 दिनों में उन्हें सेवा मुक्त करने का भी निर्देश दिया गया है। शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षकों को सेवा मुक्त करने का पत्र जारी किए जाने के बाद विवि और संबद्ध कॉलेजों में हड़कंप मचा गया है।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने किया था निरीक्षण

कुलसचिव के अनुसार शिक्षा विभाग ने सेवा मुक्त करने का पत्र जारी किया है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने पिछले दिनों इसको लेकर संबद्ध कॉलेजों का निरीक्षण किया था। इस दौरान कई शिक्षक अनुपस्थित मिले थे। इसके अलावा कॉलेजों में लैब और लाइब्रेरी की भी व्यवस्था ठीक नहीं मिली थी। जांच के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने इन शिक्षकों पर कार्रवाई करने की अनुशंसा की थी। जिन शिक्षकों पर कार्रवाई की अनुशंसा की गई है वे सभी संबद्ध कॉलेजों से हैं। इन शिक्षकों को अनुदान की राशि देने पर भी रोक लगा दी गई है।

उल्लेखनीय है कि शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने सभी विवि के शिक्षकों और कर्मचारियों को प्रतिदिन अपनी उपस्थिति भेजने का निर्देश हाल में ही दिया था। विवि के रजिस्ट्रार ने दो दिन पहले सभी कॉलेजों के प्राचार्यों को पत्र भेजकर बायोमेट्रिक हाजिरी फिर से शुरू करने का निर्देश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top