Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ स्वदेशी मेले का समापन, कलाकारों ने दर्शकों का मनमोहा

नई दिल्ली, 01 नवंबर: द्वारका स्वदेशी मेले में दिखी ग्रामीण अंचल की झलक स्वदेशी जागरण मंच एवं संस्कृत स्तोत्र प्रशिक्षण केंद्र संस्कृति मंत्रालय के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित स्वदेशी मेले का आज विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ समापन हुआ ।

स्वदेशी मेला के मीडिया प्रभारी नीलेन्द् पाठक ,संयोजक रविंद्र सोलंकी ने बताया कि इस वर्ष 26 से 31 अक्टूबर तक लगने वाले मेले में विभिन्न प्रांतो के 25 से अधिक स्थानीय लगी हुई थी बाकी सभी स्टाले दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्र की थी ,इन स्टॉल पर स्वदेशी वस्तुओं की बिक्री लगी हुई थी,

इस मेले का उद्देश्य लघु उद्योग को बढ़ावा देने का वह एक अच्छा प्रयास किया गया था ,इन उत्पादों की सबसे बड़ी खासियत इनका शुद्ध तकनीकी रूप से तैयार किया गया समान रहा जिसमें गोमूत्र गोबर से बने तरह-तरह के उत्पाद हाथ कर धा से बनी साड़ियां नागालैंड ,बंगाल के हाथ से बने कपड़े एवं अन्य स्थानों पर पापड़ अचार हाथ की बनाई गई पेंटिंग को कुमहारो द्वारा मिट्टी के बर्तन शुद्ध भोजन ग्रामीण प्रवेश के साथ जमीन पर बैठकर मक्के, व् बाजरा की रोटी व सरसों का साग कच्ची हल्दी की सब्जी के साथ गाय के दूध से ,दही से छाछ ,लस्सी पड़ोसी जा रही थी, इस मेले में सांस्कृतिक मंच से कई प्रदेशों से आए दो दर्जन से अधिक कलाकारों के ग्रुपों ने अपने-अपने प्रतिभाशाली हुनर का प्रदर्शन कर लोगों का मनोरंजन किया, मीडिया प्रमुख नीलेन्द् पाठक ने बताया कि तीन दर्जन से अधिक स्कूलों के बच्चों ने विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं में भाग लिया, जिसमें चित्रकला ,रंगोली ,मेहंदी ,रूप सजा, पोस्ट र,नींबू दौड़ ,दंड प्रदर्शन ,रस्सा- काशी ,खो-खो ,कबड्डी आदि प्रतियोगिताएं प्रमुख रूप से आयोजित की गई।

इन प्रतियोगिताओं का देख रेख बृजभूषण आर्य ,संजय कुमार ,स्नेह वशिष्ठ ,संतोषी नौटियाल ,सुधा झा, सुनीता यादव ,पूनम चौधरी के सहयोग से संपन्न हुई । मेले की सुरक्षा और स्वच्छता के लिए कैप्टन प्रमोद सिंह किशन सिंह ,राहुल भारत के निर्देशन,मे सहयोग देकर चाक – चौ बंद सुरक्षा रखी। स्वदेशी के स्लोगन व उद्देश्य की प्रदर्शनी मनोज चौधरी ,रतन सिंह बिष्ट ,गिरीश उपाध्याय, बृजेश नौटियाल के संयोजन से लगाई गई, सांस्कृतिक कार्यक्रमों का संचालन योगेश कुमार सैनी व सनी सौरभ ने सफल तरीके से किया ,अतिथि ग्रह की व्यवस्था को रामनिवास दहिया जितेंद्र कुमार सोनू रविंद्र अग्रवाल और नागेंद्र सिंह ने की।

मेले में पुलिस के साथ 50 से अधिक वालीएंटर्स अंदर बाहर सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त कर रहे थे, मेले में फायर ब्रिगेड की गाड़ी वह एक एंबुलेंस भी तैनात की गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top