Headline
जल संकट को लेकर आतिशी का अनिश्चितकालीन अनशन दूसरे दिन भी जारी
एंटी पेपर लीक कानून लागू, आधी रात को नोटिफिकेशन, 10 साल जेल, 1 करोड़ का जुर्माना
हसीना का राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर डीयू में एक हजार लोगों ने किया सामूहिक योगाभ्यास
दिल्ली जल संकट: हरियाणा से अधिक पानी की मांग के लिए आतिशी ने शुरू की भूख हड़ताल
दिल्ली कांग्रेस ने नीट ‘पेपर लीक’ को लेकर भाजपा कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया
ईडी ने मुख्यमंत्री के जमानत आदेश को अदालत की वेबसाइट पर अपलोड होने से पहले ही चुनौती दे दी: सुनीता
केजरीवाल की जमानत को उच्च न्यायालय में ईडी ने दी चुनौती
भाजपा के सांसद सांसद भर्तृहरि महताब लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर बनाये गये

मोदी, शाह और पटनायक ने जगन्नाथ रथ यात्रा महोत्सव पर लोगों को दी बधाई

नई दिल्ली/भुवनेश्वर, 20 जून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को जगन्नाथ रथ यात्रा महोत्सव के अवसर पर लोगों को बधाई दी।

श्री मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, “’रथ यात्रा की सभी को बधाई। भगवान जगन्नाथ की दिव्य यात्रा हमारे जीवन को स्वास्थ्य, खुशी और आध्यात्मिक समृद्धि से भर दे।”

श्री शाह ने ट्वीट किया, “’श्री जगन्नाथ रथयात्रा सनातन संस्कृति का बहुत बड़ा पर्व है जिसे देश के करोड़ों भक्त श्रद्धा से मनाते हैं।, रथ यात्रा का त्योहार सभी के जीवन में शांति और समृद्धि लाता है। जगन्नाथ रथयात्रा की सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।”

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अपने बधाई संदेश में कहा, “पवित्र रथ यात्रा के शुभ अवसर पर सभी को मेरी शुभकामनाएं। प्रभु का आशीर्वाद और आपके सहयोग से विकास का आशीर्वाद नये ओडिशा का मार्ग प्रशस्त करे। जय जयजगन्नाथ।”

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महाप्रभु श्री जगन्नाथ जी के मंगल एवं कल्याण के पवित्र उत्सव ‘रथयात्रा’ पर सभी श्रद्धालुओं को हार्दिक बधाई दी है। उन्होंने कहा, “प्रभु की कृपा हर घर-आंगन में अनवरत बरसती रहे तथा सुख, समृद्धि, आनंद और शुभता व शुभत्व के दीप प्रदीप्त रहें, हर मुख पर मुस्कान हो, यही प्रार्थना है।”

हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक प्रत्येक वर्ष आषाढ़ माह के पहले पखवाड़े के दूसरे दिन रथयात्रा का पर्व मनाया जाता है। इस दिन ‘ब्रह्मांड के भगवान’ कहे जाने वाले भगवान जगन्नाथ को सुंदर रथों पर मंदिर से बाहर ले जाया जाता है। पारिवारिक समरसता को समुचित आदर प्रश्रय देने तथा भाई बहन के निर्मल संबंध को प्रकट करते उन्हें स्नेहबंधन से बांधे जगन्नाथजी का श्री विग्रह अनूठा है। बड़े भाई बलराम को ही नहीं छोटी बहन सुभद्रा को भी अपने साथ रख पारिवारिक समरसता और विश्वबंधुत्व का संदेश देता उनका आचरण यही दर्शाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top