Headline
अमित शाह-जेपी नड्डा ने मतदाताओं से भारी संख्या में वोट करने की अपील की
लोकसभा चुनाव 2024 : जिन 102 सीटों पर हो रही है वोटिंग, जाने कैसा रहा था 2019 में उनका नतीजा
प्रधानमंत्री मोदी ने अमरोहा की जनसभा में कहा- इंडी गठबंधन राम और कृष्ण विरोधी
दूसरा चरण: पर्यवेक्षकों के साथ कॉन्फ्रेंस कर चुनाव आयोग ने दिए निर्देश
आम चुनाव के पहले चरण में 102 सीटों पर मतदान की तैयारी पूरी, शुक्रवार सुबह सात बजे से मतदान
कुतुब मीनार का दीदार करने भारी संख्या में पहुंचे पर्यटक, फ्री टिकट का जमकर उठाया लुत्फ
संविधान बदलने और वोट का अधिकार छीनने के लिए मोदी मांग रहे 400 सीटें : आप
मनीष सिसोदिया की रिहाई पर ग्रहण, न्यायिक हिरासत 26 अप्रैल तक बढ़ी
केजरीवाल ‘टाइप 2’ मधुमेह होने के बावजूद आम और मिठाई खा रहे: ईडी ने अदालत से कहा

मणिपुर का दौरा करेंगी डीसीडब्ल्यू प्रमुख मालीवाल

नई दिल्ली, 23 जुलाई: दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने रविवार को कहा कि मणिपुर सरकार द्वारा उन्हें दौरे की अनुमति कथित रूप से नहीं दिए जाने के बावजूद वह हिंसाग्रस्त राज्य का दौरा करेंगी।

मालीवाल ने शनिवार को आरोप लगाया था कि मणिपुर सरकार ने उन्हें ”यौन उत्पीड़न की शिकार हुई महिलाओं से मिलने के लिए राज्य की यात्रा करने की अनुमति देने से इनकार” कर दिया है। मालीवाल ने रविवार को ट्वीट किया कि उन्होंने मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को पत्र लिखकर उनके साथ बैठक करने का अनुरोध किया है। डीसीडब्ल्यू प्रमुख के रविवार दोपहर इंफाल पहुंचने की संभावना है।

मालीवाल ने ट्वीट किया, ”मणिपुर सरकार ने कानून-व्यवस्था संबंधी स्थिति के कारण मुझे अपनी यात्रा स्थगित करने पर विचार करने का सुझाव दिया था। उनके सुझाव पर विचार-विमर्श करने के बाद मैंने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार इंफाल जाने का फैसला किया। मणिपुर के मुख्यमंत्री से समय मांगा है। उनसे मुलाकात करूंगी और यौन उत्पीड़न का शिकार हुई महिलाओं के पास साथ चलने का अनुरोध करूंगी।”

उन्होंने रविवार को मणिपुर के मुख्यमंत्री को लिखे पत्र की प्रति भी साझा की, जिसमें उन्होंने बीरेन सिंह से उनकी यात्रा में मदद मुहैया कराने का आग्रह किया और यह आश्वासन दिया कि वह राज्य सरकार के लिए समस्याएं पैदा करने वाला कोई कार्य नहीं करेंगी।

मालीवाल ने पत्र में कहा, ”मैं मणिपुर में मानवाधिकारों के उल्लंघन और यौन उत्पीड़न के मामलों के अत्यंत प्रासंगिक मुद्दे पर चर्चा करने के लिए आपके (मुख्यमंत्री के) साथ एक अत्यावश्यक बैठक करना चाहती हूं… राज्य में जारी हिंसा से बचने के लिए कई मणिपुरी महिलाएं दिल्ली आई हैं। मैं आपसे उनके कल्याण से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा करना चाहती हूं।” उन्होंने हिंसा प्रभावित उन राहत शिविरों का दौरा करने के लिए भी मुख्यमंत्री से सहयोग देने का आग्रह किया, जहां यौन उत्पीड़न की पीड़िताएं इस समय रह रही हैं।

डीसीडब्ल्यू प्रमुख ने कहा, ”मैं आपसे मेरी यात्रा संबंधी व्यवस्था करने का अधिकारियों को निर्देश जारी करने का अनुरोध करती हूं। इस देश की एक नागरिक और महिलाओं एवं लड़कियों की रक्षा करने वाली एक वैधानिक संस्था की प्रमुख के रूप में, मैं आपसे मणिपुर की बहनों को सहायता और समर्थन प्रदान करने में मदद मुहैया कराने की अपील करती हूं। मैं आपको विश्वास दिलाती हूं कि राज्य की यात्रा के दौरान मैं ऐसा कुछ भी नहीं करूंगी जिससे आपकी सरकार के लिए कोई समस्या पैदा हो।”

मालीवाल ने कहा कि मणिपुर में महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ अमानवीय अत्याचार के वीडियो ने देश को झकझोरकर रख दिया है और वह इन महिलाओं को सहायता प्रदान करना चाहती हैं।

डीसीडब्ल्यू प्रमुख ने कहा कि उन्होंने यौन हिंसा की शिकार हुई महिलाओं से बातचीत करने के लिए राज्य की यात्रा करने के संबंध में 20 जुलाई को सिंह को और फिर 21 जुलाई को मणिपुर पुलिस के प्रमुख को पत्र लिखा था।

उन्होंने कहा, ”21 जुलाई 2023 को एक पत्र इंफाल के डीएम (जिला मजिस्ट्रेट) को भेजा गया था, जिन्होंने इसे संयुक्त सचिव (गृह) को भेज दिया था और पत्र की हस्ताक्षरकर्ता (मालीवाल) और उनकी टीम को आवश्यक सहायता प्रदान करने का अनुरोध किया था। डीएम ने हमें संयुक्त सचिव (गृह) के संपर्क नंबर भी दिए थे, जिन्होंने इस बात की पुष्टि की थी कि हम मणिपुर की यात्रा कर सकते हैं और वह राहत शिविरों का दौरा करने के लिए हमें आवश्यक सहायता प्रदान करेंगे। इसके बाद, हमने इंफाल की अपनी यात्रा की योजना बनाई थी।”

मालीवाल ने पत्र में कहा, ”हालांकि, अचानक हमें संयुक्त सचिव (गृह) से एक ईमेल मिला जिसमें हमसे मणिपुर में मौजूदा कानून व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर अपनी यात्रा स्थगित करने पर विचार करने का अनुरोध किया गया था।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top