Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

फ्रांस की यात्रा से हमारी सामरिक साझेदारी को नई गति मिलेगी : प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली, 13 जुलाई: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को विश्वास व्यक्त किया कि उनकी फ्रांस यात्रा से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय साझेदारी को नई गति मिलेगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह फ्रांस की यात्रा के दौरान राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ विविध विषयों पर विस्तृत चर्चा को लेकर आशान्वित हैं।

फ्रांस रवाना होने से पहले अपने संदेश में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘मैं अपने मित्र, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के निमंत्रण पर 13 से 14 जुलाई तक फ्रांस के राजकीय दौरे पर रहूंगा।”

उन्होंने कहा, ”यह यात्रा इसलिये विशिष्ट है क्योंकि मुझे राष्ट्रपति मैक्रों के साथ फ्रांस के राष्ट्रीय दिवस या बैस्टिल दिवस पर पेरिस में होने वाले समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मिलित होना है । बैस्टिल दिवस परेड में भारत की तीनों सेनाओं का दल भी हिस्सा लेगा, जबकि भारतीय वायुसेना इस अवसर पर फ्लाई-पास्ट का प्रदर्शन करेगी।”

प्रधानमंत्री ने दोनों देशों की सामरिक साझेदारी की 25वीं वर्षगांठ का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘इस वर्ष हमारी रणनीतिक साझेदारी की वर्षगांठ है। गहरे विश्वास और संकल्प में निहित हमारे दोनों देशों के बीच रक्षा, अंतरिक्ष, असैन्य परमाणु, नीली अर्थव्यवस्था, व्यापार, निवेश, शिक्षा, संस्कृति और लोगों के बीच मेल-मिलाप सहित विभिन्न क्षेत्रों में करीबी सहयोग हो रहा है।”

उन्होंने कहा, ”हम क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी साथ मिलकर काम कर रहे हैं।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘मैं राष्ट्रपति मैक्रों से अपनी मुलाकात और विस्तृत विषयों पर चर्चा करने को लेकर उत्सुक हूं, ताकि दीर्घकालीन और समय पर खरी उतरने वाली हमारी साझेदारी अगले 25 वर्षों के कालखंड में और आगे बढ़े। ”

उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 की उनकी पिछली फ्रांस यात्रा के बाद से उन्हें राष्ट्रपति मैक्रों से मिलने के अनेक अवसर मिले हैं और हाल ही में मई 2023 में जी-7 शिखर वार्ता के दौरान जापान के हिरोशिमा में भी उनसे मुलाकात हुई थी।

मोदी ने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान वह फ्रांस की प्रधानमंत्री एलिजाबेथ बोर्न, सीनेट के अध्यक्ष जेरार्ड लार्शल और नेशनल असेम्बली की अध्यक्ष येल ब्रॉन-पिवे सहित फ्रांस के नेतृत्व से बातचीत करने के लिये भी उत्सुक हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘अपनी यात्रा के दौरान, मुझे ऊर्जावान भारतीय समुदाय, दोनों देशों के दिग्गज सीईओ और फ्रांस के प्रसिद्ध महानुभावों से मिलने का अवसर मिलेगा। मुझे विश्वास है कि मेरी यात्रा से हमारी रणनीतिक साझेदारी को नई गति मिलेगी।”

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फ्रांस और यूएई की यात्रा पर रवाना हुए।

उन्होंने कहा कि यात्रा के पहले चरण में प्रधानमंत्री पेरिस जायेंगे जहां वे बैस्टिल दिवस समारोह में विशिष्ट अतिथि के तौर पर हिस्सा लेंगे। प्रधानमंत्री मोदी 13-14 जुलाई को फ्रांस की यात्रा पर रहेंगे ।

प्रधानमंत्री की यह यात्रा फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के निमंत्रण पर हो रही है। विदेश मंत्रालय के अनुसार राष्ट्रपति मैक्रों, प्रधानमंत्री के सम्मान में एक राजकीय भोज की मेजबानी करेंगे तथा एक निजी रात्रि भोज भी देंगे।

प्रधानमंत्री मोदी का फ्रांस के प्रधानमंत्री तथा वहां की सीनेट एवं नेशनल एसेम्बली के अध्यक्षों से मुलाकात का भी कार्यक्रम है। वह फ्रांस में भारतीय समुदाय के लोगों, भारतीय एवं फ्रांसीसी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी तथा फ्रांस के गणमान्य लोगों से भी संवाद करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फ्रांस की यात्रा पूरी करने के बाद 15 जुलाई को अबू धाबी जायेंगे।

मोदी ने कहा, ‘‘पेरिस के बाद मैं 15 जुलाई को अबू धाबी, संयुक्त अरब अमीरात की राजकीय यात्रा पर जाऊंगा । मैं संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति और अबू धाबी के शासक अपने मित्र शेख मोहम्मद बिन ज़ायद अल नाहयान से मिलने के लिये उत्सुक हूं।”

उन्होंने कहा कि दोनों देश व्यापार, निवेश, ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा, विज्ञान व प्रौद्योगिकी, शिक्षा, फिन-टेक, रक्षा, सुरक्षा और लोगों के बीच गहरे मेल-मिलाप जैसे विस्तृत क्षेत्रों में सहयोग करते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘पिछले वर्ष राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन ज़ायद और मैं दोनों देशों की भाविष्य की साझेदारी का खाका बनाने पर सहमत हुये थे, और मैं उनके साथ चर्चा करने की प्रतीक्षा में हूं कि कैसे हम अपने रिश्तों को और गहरा बना सकते हैं।”

मोदी ने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात इस वर्ष के अंत तक यूएनएफसीसी (कॉप-28) के पक्षकारों के 28वें सम्मेलन की मेजबानी करेगा।

उन्होंने कहा कि इस परिप्रेक्ष्य में वह जलवायु सम्बंधी कार्यवाही को तेज करने के बारे में वैश्विक सहयोग को मजबूत बनाने पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे, ताकि पेरिस समझौते के तहत ऊर्जा अंतरण व क्रियान्वयन को संभव बनाया जा सके।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि संयुक्त अरब अमीरात की मेरी यात्रा से हमारी समग्र रणनीतिक साझेदारी का एक नया अध्याय शुरू होगा।”

विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने बुधवार को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बृहस्पतिवार से शुरू होने वाली दो दिवसीय फ्रांस यात्रा काफी महत्वपूर्ण होगी और आने वाले वर्षों में दोनों देशों के सामरिक गठजोड़ के लिए ‘नये मानदंड’ तय करेगी।

मोदी 14 जुलाई को फ्रांस में बैस्टिल दिवस समारोह में विशिष्ट अतिथि होंगे। इसमें भारतीय सेना के तीनों अंगों की एक टुकड़ी भी हिस्सा ले रही है। इस यात्रा के दौरान फ्रांस के साथ सामरिक, वैज्ञानिक, अकादमिक और आर्थिक सहयोग जैसे विविध क्षेत्रों में भविष्य के सहयोग का रास्ता तलाशने पर भी चर्चा होगी। इसमें रक्षा, अंतरिक्ष, कारोबार एवं निवेश के क्षेत्र शाामिल हैं।

बैस्टिल दिवस समारोह में हिस्सा लेने के लिए भारतीय सशस्त्र बलों की 269 सदस्यीय तीनों सेनाओं की टुकड़ी वहां पहुंच गई है। इसमें फ्रांसीसी लड़ाकू विमानों के साथ भारतीय वायु सेना के कम से कम तीन राफेल लड़ाकू विमान भी हिस्सा लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top