Headline
दिल्ली आबकारी नीति घोटाला : बीआरएस नेता के कविता ने दिल्ली की अदालत से जमानत मांगी
टुकड़े-टुकड़े गैंग का नेतृत्व करने वाले लोग दिल्ली वालों के प्रति कितने जिम्मेदार होंगे- मनोज तिवारी
आप नेताओं को जेल भेजने से उनका मनोबल और मजबूत हुआ : संजय सिंह
केजरीवाल की याचिका पर ईडी को नोटिस, सुप्रीम कोर्ट 29 को करेगा अगली सुनवाई
मणिपुर के मुख्यमंत्री को क्यों बर्खास्त नहीं किया गया : कांग्रेस
पीएम मोदी का राहुल पर तंज कहा- यूपी में खानदानी सीट बचाना मुश्किल हुआ तो केरल में बनाया नया ठिकाना
सतुआन पर सुलतान पोखर में दर्जनों बच्चों का हुआ मुंडन संस्कार
‘भाजपा के घोषणा पत्र में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी को हटाने का जिक्र नहीं’, तेजस्वी यादव का दावा
रीवा में 44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान

दिल्ली संशोधन विधेयक के समर्थन में वोट करेगी बीजेडी, राज्यसभा में विपक्ष को झटका

नई दिल्ली, 01 अगस्त: इंडिया गठबंधन से जुड़े विपक्षी दल राज्यसभा में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार (संशोधन) विधेयक को पास होने से रोकना चाहते हैं। हालांकि, बीजू जनता दल से राज्यसभा सांसद सस्मित पात्रा का कहना है कि उनकी पार्टी इस बिल के समर्थन में वोट करेगी।

बीजू जनता दल द्वारा दिल्ली अमेंडमेंट बिल का समर्थन करना विपक्ष के लिए एक बड़ा झटका है। ऐसी स्थिति में अब राज्यसभा में बिल पास कराना सरकार के लिए ज्यादा कठिन नहीं होगा।

बिल को लेकर बीजू जनता दल ने अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा कि उन्होंने बिल का समर्थन करने के लिए बाकायदा एक व्हिप जारी किया है। 3 लाइन के इस व्हिप में सभी सांसदों से राज्यसभा और लोकसभा में इस बिल का समर्थन करने को कहा गया है।

मंगलवार को बीजू जनता दल के राज्यसभा सांसद सस्मित पात्रा ने यह जानकारी दी। यह विधेयक राज्यसभा की मंजूरी के लिए रखा जाना है। यही कारण है कि सरकार के साथ-साथ विपक्षी पार्टियां भी इस मुद्दे पर अपनी रणनीति तैयार कर रही हैं।

राज्यसभा में आम आदमी पार्टी के चीफ व्हिप सुशील कुमार गुप्ता ने भी व्हिप जारी किया है, जिसमें आम आदमी पार्टी के सभी राज्यसभा सांसदों को 4 अगस्त तक सदन में मौजूद रहने और बिल के खिलाफ वोट डालने को कहा गया है।

इसके अलावा कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल यूनाइटेड समेत कई विपक्षी पार्टियों ने बिल के खिलाफ वोट डालने की घोषणा की है। हालांकि, विपक्ष की गोलबंदी के बावजूद बीजू जनता दल के रुख से स्पष्ट है कि सरकार के पास राज्यसभा में बिल के लिए पर्याप्त समर्थन हासिल है।

गौरतलब है कि इस विधेयक पर पक्ष और विपक्ष के बीच तनातनी बनी हुई है। इस बिल को 25 जुलाई को केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी मिल गई थी। केंद्र सरकार 19 मई को दिल्ली सरकार में तैनात अधिकारियों के ट्रांसफर-पोस्टिंग से जुड़ा अध्यादेश लाई थी। इस अध्यादेश में सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले को पलट दिया, जिसमें ट्रांसफर-पोस्टिंग का अधिकार दिल्ली सरकार को दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top