Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

दिल्ली में रविवार तक सभी स्कूल-कॉलेज, विश्वविद्यालय रहेंगे बंद : केजरीवाल

नई दिल्ली, 13 जुलाई : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यमुना का जलस्तर बढ़ने के बाद सभी स्कूलों-कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के साथ-साथ दिल्ली सरकार के सभी कार्यालयों को रविवार तक के लिए बंद करने का आदेश दिया है।

उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना की अध्यक्षता में गुरुवार को डीडीएमए की बैठक में यमुना में बढ़ते जल स्तर को लेकर कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। श्री केजरीवाल ने निर्णयों की जानकारी देते हुए आज बताया कि यमुना का जल स्तर अभी बढने की संभावना है इसलिए आवश्यक सेवाओं को छोड़कर दिल्ली सरकार के सभी कार्यालयों को रविवार तक बंद करने का आदेश दिया गया है। सभी कर्मचारी रविवार तक घर से ही काम करेंगे। प्राइवेट संस्थानों को भी एडवाइजरी जारी कर अधिक से अधिक वर्क फ्राॅम होम करने की अपील की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वजीराबाद, चंद्रावल और ओखला वाटर ट्रीटमेंट प्लांट को बंद करना पड़ा है। इससे 25 फीसद पानी का प्रोडक्शन कम हो गया है। दिल्ली सरकार पानी की राशनिंग कर रही है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में पानी की काफी ज्यादा किल्लत होने वाली है। तीन वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बंद होने से दिल्ली की पानी उत्पादन क्षमता 25 फीसद तक कम हो गई है। दिल्ली के लोगों को एक-दो दिन पानी की दिक्कत हो सकती है। दिल्ली के अंदर प्रवेश करने वाले भारी वाहनों पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। सिर्फ आवश्यक सेवाएं देने वाले भरी वाहनों को ही दिल्ली में आने दिया जाएगा। राहत केंद्रों में शौचालय और बॉथरूम की काफी दिक्कत आ रही थी क्योंकि कांवड़ के भी काफी कैंप लगे हैं, वहां भेज दिए गए हैं। राहत केंद्रों को अब स्कूलों में शिफ्ट किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में बने राहत केंद्रों में करीब 20 हजार लोग हैं। 50 से अधिक नावों का इंतजाम किया गया है। अगर जरूरत पड़ेगी तो और नावों का इंतजाम कर दिया जाएगा। हथिनी कुंड बैराज में जितना पानी आ रहा है वह उनको छोड़ना ही पड़ रहा है, क्योंकि वहां पर कोई रिजर्वायर नहीं है। इससे संभावना है कि आज शाम तक यमुना का जल स्तर थोड़ा और ऊपर तक पहुंचेगा। इसके बाद संभावना जतायी गयी है कि जल स्तर नीचे जाना शुरू हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top