Headline
बिहार की आर्थिक अपराध इकाई ने केंद्र को सौंपी नीट पेपर लीक मामले की रिपोर्ट
मुख्यमंत्री ने दो दिवसीय आम महोत्सव-2024 का किया उद्घाटन
भारत-बंगलादेश गंगा जल संधि की समीक्षा करेंगे, बंग्लादेशी नागरिकों को इलाज के लिए ई-वीजा मिलेगा
जल संकट को लेकर आतिशी का अनिश्चितकालीन अनशन दूसरे दिन भी जारी
एंटी पेपर लीक कानून लागू, आधी रात को नोटिफिकेशन, 10 साल जेल, 1 करोड़ का जुर्माना
हसीना का राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर डीयू में एक हजार लोगों ने किया सामूहिक योगाभ्यास
दिल्ली जल संकट: हरियाणा से अधिक पानी की मांग के लिए आतिशी ने शुरू की भूख हड़ताल
दिल्ली कांग्रेस ने नीट ‘पेपर लीक’ को लेकर भाजपा कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया

झारखंड: छठ व्रतियों ने उगते सूर्य को अर्घ्य दिया

रांची, 20 नवंबर: झारखंड भर में लाखों पुरुषों और महिलाओं ने राज्य के सबसे लोकप्रिय त्योहार छठ के आखिरी दिन सोमवार को उगते सूरज को अर्घ्य दिया।

भक्ति गीतों और पटाखों के बीच 36 घंटे का कठिन उपवास रखने वाले व्रतियों ने राज्य के विभिन्न घाटों में उगते सूर्य को ‘उषा अर्घ्य’ दिया।

बहुत से लोगों को पूजा में इस्तेमाल होने वाली सामग्री से भरी टोकरियों को नदियों और अन्य जलाशयों के तटों पर बने घाटों तक ले जाते हुए देखा गया।

ओडिशा के राज्यपाल रघुबर दास ने अपने परिवार के सदस्यों के साथ जमशेदपुर में सूर्य नमस्कार किया, जबकि विभिन्न राजनीतिक दलों के कई सांसदों और विधायकों ने अपने-अपने स्थानों पर पूजा की।

श्रद्धालु सुबह-सुबह नदियों और जलाशयों के घाटों पर पहुंचे और उगते सूर्य को अर्घ्य दिया।

चार दिवसीय पर्व 17 नवंबर को ‘नहाय खाय’ के साथ शुरू हुआ, जब श्रद्धालु और उनके परिवार के सदस्य स्नान के बाद सात्विक भोजन करते हैं। इसके एक दिन बाद ‘खरना’ होता है जब चावल की खीर और रोटी का ‘प्रसाद’ परिवार और दोस्तों के साथ साझा किया जाता है।

त्योहार का समापन सोमवार की सुबह उगते सूर्य की पूजा के साथ हुआ, जिसके बाद श्रद्धालु फलों और ‘ठेकुआ’ के साथ अपना उपवास तोड़ते हैं।

राहत की बात है कि किसी भी जगह से अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। सुरक्षाकर्मियों ने सुबह श्रद्धालुओं की पूजा पूरी करने में मदद की।

इस अवसर पर पूरे झारखंड में जलाशयों को साफ किया गया था।

रांची के अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (कानून-व्यवस्था) राजेश्वर नाथ आलोक ने बताया कि रांची के सभी छठ घाटों पर पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की गई थी।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि रविवार को सुबह आठ बजे से रात 11 बजे तक और सोमवार को दोपहर दो बजे से रात 10 बजे तक रांची में भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top