Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

जी.बी.रोड की महिलाओं और बच्चों के साथ मनाया गौतम गंभीर नें श्री राम पर्व

नई दिल्ली, 23 जनवरी: जीबी रोड की महिलाओं और उनके बच्चों के साथ पूर्वी दिल्ली सांसद गौतम गंभीर ने मनाया राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का ऐतिहासिक उत्सव, कहा “सब के राम-सब में राम”, बांटी साड़ियां – शॉल और जलाया दीप -प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में राम मंदिर के निर्माण को एक ऐसे अवसर के रूप में हमेशा याद किया जाएगा जिसने देश को उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक एक साथ ला दिया। राम सिर्फ़ हमारे आराध्य ही नहीं हैं, राम हमारी संस्कृति हैं। इस देश का आदर्श हैं। 22 जनवरी आजाद भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाने वाला दिन हैं। आज जहां पूरा देश इस दिन को एक उत्सव की तरह मना रहा है पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर ने दिल्ली के जीबी रोड की महिलाओं और बच्चों के साथ इस ऐतिहासिक दिन का स्वागत किया।

 इस शुभ अवसर पर सांसद गौतम गंभीर ने उनके साथ मिलकर प्राण प्रतिष्ठा को देखा और उनके हाथों से बनी रोटी भी खाई। सांसद गौतम गंभीर की कहना है की राम सबके है और राम सब में भी है। भगवान राम ने अपने वनवास के दौरान शबरी के जूठे बेर खाए और निषाद राज को गले से लगाया। आज इस पावन दिन पर पूरी दुनिया राममय हो गई है, और एक नए युग का आरंभ हुआ है। सांसद गौतम गंभीर ने जी बी रोड के महिलाओं को साड़ी और शॉल भी तोहफे में दिये। और प्रधानमंत्री के आह्वान पर उनके साथ इस शुभ अवसर पर दीप जलाकर दिवाली भी मनाई।

 सांसद गौतम गंभीर ने इस मौके पर कहा -सदियों के बाद, एक ऐतिहासिक गलती को ठीक कर दिया गया है। यह भारत के इतिहास का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन है। इस भव्य मंदिर और भगवान राम की मूर्ति को देखने के लिए न केवल देश के लोग और श्रद्धालु बल्कि पूरी दुनिया इंतजार कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के साथ-साथ राम मंदिर के निर्माण को एक ऐसे अवसर के रूप में हमेशा याद किया जाएगा जिसने देश को उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक एक साथ ला दिया। मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र में समारोहों का हिस्सा बनने के लिए उत्साहित हूं और उन सभी को बधाई देता हूं जिन्होंने इसे वास्तविकता बनाने के लिए अथक प्रयास किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top