Headline
भोजपुरी अभिनेता पवन सिंह की मां ने भी काराकाट से भरा नामांकन
जानें ग्वालियर रियासत की राजमाता को: नेपाल राजघराने से था ताल्लुक, शादी के बाद किरण से बनीं माधवी राजे सिंधिया
ग्वालियर राजघराने की राजमाता माधवी का निधन, सीएम समेत अन्य नेताओं ने जताया दुख
अमीर और गरीब की लड़ाई है मौजूदा लोकसभा चुनाव : खड़गे
उच्चतम न्यायालय ने न्यूज़क्लिक प्रधान संपादक प्रबीर पुरकायस्थ की गिरफ्तारी को अवैध करार दिया, अविलंब रिहा करने का आदेश
दिल्ली हाई कोर्ट ने सिसोदिया की जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
कन्हैया कुमार ने पीएम मोदी को दी अंबानी-अडाणी के यहां ईडी-सीबीआई को भेजने की चुनौती
मोदी के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान की पोल खोलेगी ‘आप’ : गोपाल राय
भारी मतदान के जरिये लोगों ने दिल्ली को दिया संदेश: महबूबा

छपरा: आशा कार्यकर्ताओं का एक दिवसीय धरना प्रदर्शन

बिहार/छपरा, 13 जुलाई (संवाददाता – हिमालय राज) : भाकपा माले के जन संगठन AICCTU के छपरा जिला आशा कार्यकर्ताओं ने छपरा सदर अस्पताल के OPD विभाग में मुख्य दरवाजे को बंद कर एक दिवसीय धरना दिया और अनिश्चितकालीन हड़ताल का आह्वान किया।

अपनी मांगों की समर्थन में आशा कार्यकर्ताओं का अनिश्चितकालीन हड़ताल सारण में दूसरे दिन भी जारी रहा. आशा कार्यकर्ताओं ने जहां पहले दिन जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर प्रदर्शन कर चिकित्सकीय कार्य को बाधित किया था, वहीं दूसरे दिन छपरा सदर अस्पताल स्थित ओपीडी के मुख्य द्वार के सामने धरना-प्रदर्शन पर बैठ गई और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए ओपीडी सेवा को बाधित कर दिया।

जिसके बाद अस्पताल प्रशासन के द्वारा ओपीडी के दूसरे गेट को खोलकर चिकित्सकीय सेवा बहाल कराई गई. ओपीडी के सामने प्रदर्शन कर रही आशा कार्यकर्ताओं ने बताया कि सरकार उनकी अनदेखी कर रही है. 1000 में गैस सिलेंडर भी नहीं मिल रहा है और 1000 के लिए वे दिन भर घर परिवार छोड़कर स्वास्थ्य विभाग का काम कर रही है. अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी करते हुए आशा कार्यकर्ताओं ने कहा कि “1000 में दम नहीं 21000 से कम नहीं”।

उन्होंने सरकार से मांग की है कि सरकार उनको राज्य कर्मी का दर्जा देते हुए सम्मानजनक मानदेय दे जिससे कि वह अपने परिवार का भरण पोषण कर सकें. आशा कार्यकर्ताओं ने कोरोना काल में किए गए कार्य का मेहनताना देने की मांग की और सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार उनकी मांगों पर जब तक विचार नहीं करती है तब तक उनका धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा और उनके द्वारा चिकित्सकीय कार्य का बहिष्कार किया जाएगा।

कार्यक्रम को ममता देवी, रूपा देवी, कुमकुम देवी, के नेतृत्व में किया गया व मीरा देवी, विभा देवी, इंदु कुमारी, सरोज कुमारी, गीतांजलि कुमारी, सुमन कुमारी, व ज्ञानती देवी व अन्य सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top