Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

छठ गीत के माध्यम से बिहार के माटी की खुशबू बिखेर रही छपरा की बेटी ऋषिका सिंह चंदेल

छपरा, 18 नवंबर: लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा में गीतों धुन चारों तरफ सुनाई दे रही है। छपरा की बेटी व फिल्म अभिनेत्री ऋषिका सिंह चंदेल का छठ पूजा पर गाना रिलीज हुआ है। सागर सरगम म्यूजिक ने ऋषिका सिंह चंदेल अभिनीत नया गीत ‘छठ बरतिन करेली गुहार’ लॉन्च किया है। सात मिनट के इस गीत में बिहार के महापर्व छठ की महत्ता बताई गई है।

यह गीत सोशल मीडिया और यू ट्यूब पर काफी पसंद की जा रही है। कई टीवी सीरियल में मुख्य भूमिका निभा चुकी चर्चित अभिनेत्री ऋषिका सिंह चंदेल और लोकप्रिय अभिनेता चंदन रॉय इस वीडियो में मुख्य भूमिका में हैं। इसके निर्माता सागर श्रीवास्तव व निर्देशक शैलेंद्र तिवारी है। संगीत साजन मिश्रा का है जबकि लीरिक्स हृदय नारायण झा ने लिखे हैं। अपनी सुमधुर आवाज से नवोदित गायिका हनी प्रिया ने इस छठ गीत में जान डाल दिया है।

ऋषिका विद्या’ ‘लवपंती’, ‘जय संतोषी मां’, ‘नई सोच’ जैसी धारावाहिकों में मुख्य भूमिका निभा चुकी हैं। और अब इस छठ गीत से वो अपने चाहने वालों को एक मधुर सौगात दे रही हैं। ऋषिका सिंह चंदेल मुख्य रूप से बिहार के छपरा की रहने वाली हैं। और मुंबई में रहते हुए उन्होंने बहुत ही कम समय में अपनी एक मजबूत पहचान ली हैं। सोशल मीडिया पर भी उनका जबरदस्त क्रेज है।

ऋषिका कहती हैं कि बिहार के लोगों से उन्हें बहुत सपोर्ट और प्यार मिला है और ऐसे में इस छठ गीत के माध्यम से वो अपने बिहार के फैंस को भी एक खुशी देने का प्रयास कर रही हैं। गौरतलब है कि छठ बिहार का सबसे बड़ा पर्व है। इसकी शुरुआत नहाए-खाए से शुरू होकर खरना और फिर डूबते व उगते सूर्य को अर्ध्य देकर पारण के साथ समाप्त किया जाता है। इन भावों को ‘छठ बरतिन करेली गुहार’ गीत में बड़ी ही खूबसूरती से दिखाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top