Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

ग्रामीण हाउस टैक्स नहीं देंगे, आने वाले अधिकारी को बंधक बनाया जाएगा : चौ सुरेन्द्र सोलंकी

नई दिल्ली, 03 सितंबर : गांव में हाउस टैक्स के नोटिस देने, ग्रामीणों को मलिकाना हक नहीं देने, कृषि भूमि की म्यूटेशन बंद करने समेत करीब 12 मांगो और समस्याओं को लेकर दिल्ली के 360 गांव के ग्रामीणों ने आज पीरा गढ़ी गांव में पालम 360 खाप की अगवाई में महापंचायत हुई। महापंचायत की अध्यक्षता पालम 360 खाप के प्रधान चौधरी सुरेंद्र सोलंकी ने की। इस मौके पर ग्रामीणों ने एक स्वर में निर्णय लिया कि वह हाउस टैक्स जमा नहीं करेंगे। इसके अलावा 16 सितंबर तक उनकी मांगे नहीं माने जाने की स्थिति में वह उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेंगे। उन्होंने महापंचायत में आए सभी दलों के नेताओं को चेतावनी दी कि जो नेता उनके साथ नहीं देगा वह उन्हें सबक सिखाने का कार्य करेंगे, जबकि जो नेता उनकी मदद करेंगे वह उनका हर कदम पर साथ देंगे।

महापंचायत की अध्यक्षता करते हुए चौधरी सुरेंद्र सोलंकी ने कहा कि आजादी के बाद से ही ग्रामीणों के साथ अन्याय होना शुरू हो गया था और यह सिलसिला लगातार जारी है, मगर अब ग्रामीण अपने साथ हो रहे अन्याय और अत्याचार को सहन नहीं करेंगे। वह उन सभी नियम और कानून को वापस कराने का कार्य करेंगे जो ग्रामीण विरोधी है। इसके अलावा वह अपना हक प्राप्त करने के लिए भी पूरी ताकत लगाएंगे। उनकी कृषि भूमि अधिग्रहण करके उन्हें बेरोजगार कर दिया गया है। उनको आश्वासन देने के बावजूद न एक परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी गई और ना ही उनको वैकल्पिक प्लाट दिए गए। इसके अलावा गांव की ग्राम सभा भूमि भी सरकार ने हड़प ली। इसलिए ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं से मोहताज हो गए हैं, क्योंकि गांव में उनको सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 1 इंच जमीन भी नहीं बची है।

दूसरी और उन्होंने कहा कि अनधिकृत कालोनियों की तरह ग्रामीणों को भी उनकी पुराना लाल डोरा, नया लाल डोरा और 20 सूत्री कार्यक्रम के अलावा धारा 74 के तहत मिली भूमि का मालिकाना हक दिया जाए। उन्होंने गांव में भवन उप नियम लागू करने का भी कड़ा विरोध किया। उन्होंने कहा कि गांव को शहरीकृत का दर्जा देकर ग्रामीणों को प्रताड़ित किया जा रहा है। फिलहाल ग्रामीणों की कृषि भूमि का म्यूटेशन करना बंद कर दिया गया है। इस कारण ग्रामीण अपनी जमीन को अपने ही नाम नहीं कर पा रहे हैं। इसके अलावा गांव में केवल सीवर लाइन डाली गई है। उन्होंने सरकार से मांग की कि जैसे स्मार्ट सिटी बनाई जा रही है वैसे ही स्मार्ट गांव भी बनाए जाने चाहिए। इसके लिए एक अलग योजना बनाकर गांवों में समस्त सुविधा दी जाए, क्योंकि गांव विकसित हुए बिना शहर विकसित नहीं हो सकता और देश भी विकसित नहीं हो पाएगा। लिहाजा गांव की ओर खास ध्यान दिया जाना चाहिए।

महापंचायत में प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा, दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, सांसद प्रवेश वर्मा व हंसराज हंस, विधायक राघवेंद्र शौकीन, पूर्व विधायक विजय लोचाव व मनोज शौकीन, पूर्व महापौर मास्टर आजाद सिंह, बवाना 52नी के प्रधान चौधरी दारा सिंह, लाडो सराय 96 के प्रधान चौधरी नरेश, आदि ने भी महापंचायत में विचार व्यक्त किए। इस दौरान सभी नेताओं ने ग्रामीणों की मांग का समर्थन करते हुए उन्हें पूरा कराने का आश्वासन दिया। खास तौर पर भाजपा नेताओं ने कहा कि ग्रामीण हाउस टैक्स जमा ना कराए, वह उनका हाउस टैक्स माफ कराएंगे। इसके अलावा वह उनकी अन्य समस्याएं दूर करने की भी पहल करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top