Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

कोविंद ने पत्रकारों से अधिक टीआरपी के लिए खबरों को सनसनीखेज बनाने से बचने का आग्रह किया

नई दिल्ली, 10 जनवरी :पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पत्रकारों से अधिक ‘टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट’ (टीआरपी) के वास्ते समाचारों को सनसनीखेज नहीं बनाने का बुधवार को आग्रह किया और कहा कि ऐसी प्रवृत्तियां पत्रकारिता के मानकों के लिए नुकसानदायक साबित हुई हैं।

कोविंद ने भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के 55वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए मीडिया के सामने मौजूद फर्जी समाचार, पेड न्यूज, गलत सूचना और ‘डीपफेक’ जैसी चुनौतियों का भी जिक्र किया।

तस्वीर या वीडियो में किसी व्यक्ति के चेहरे या शरीर को डिजिटल रूप से बदलने को ‘डीपफेक’ कहते हैं। मशीन लर्निंग और कृत्रिम बुद्धिमत्ता से बने इन वीडियो के जरिये किसी को भी आसानी से धोखा दिया जा सकता है।

कोविंद ने कहा, ”दुनिया के किसी भी कोने में बैठा कोई भी शरारती तत्व सोशल मीडिया में फर्जी खबरें फैला सकता है। जब तक हमें यह पता चलता है कि कुछ जानकारी गलत है और दुर्भावना से फैलाई गई है, तब तक समाज को इससे नुकसान हो चुका होता है।”

उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करना पत्रकारों का कर्तव्य है कि नागरिकों को सही समाचार और जानकारी मिले। उन्होंने कहा, ”आप पत्रकारिता की दुनिया में उस समय कदम रख रहे हैं जब तकनीक में तेजी से बदलाव देखने को मिल रहा है। प्रत्येक बदलाव अनेक सम्भावनाएं और चुनौतियां लेकर आता है। हमें नई तकनीक के दुरुपयोग से बचना होगा।”

पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि अधिक टीआरपी के लिए मीडिया द्वारा खबरों को सनसनीखेज बनाना एक बड़ी चुनौती बनकर उभरा है। उन्होंने कहा, ”ऐसी प्रवृत्तियां पत्रकारिता के मानकों के लिए हानिकारक साबित हो रही हैं। मैं आपसे अनुरोध करूंगा कि आप ऐसी प्रवृत्तियों से दूर रहें और पत्रकारिता के मानकों को बनाये रखें।”

टीआरपी एक ऐसा उपकरण है जिसके जरिये यह पता लगाया जाता है कि कौन सा कार्यक्रम या टीवी चैनल सबसे ज्यादा देखा जा रहा है।

दीक्षांत समारोह के दौरान दिल्ली और इसके ढेंकनाल, आइजोल, अमरावती, कोट्टायम और जम्मू केंद्रों से 2021-22 और 2022-23 बैच के आईआईएमसी छात्रों को स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्रमाणपत्र प्रदान किये गये।

भारत मंडपम में आयोजित कार्यक्रम में आईआईएमसी के अध्यक्ष आर.जगन्नाथन, महानिदेशक अनुपमा भटनागर और संस्थान के सभी केंद्रों के संकाय सदस्य मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top