Headline
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर डीयू में एक हजार लोगों ने किया सामूहिक योगाभ्यास
दिल्ली जल संकट: हरियाणा से अधिक पानी की मांग के लिए आतिशी ने शुरू की भूख हड़ताल
दिल्ली कांग्रेस ने नीट ‘पेपर लीक’ को लेकर भाजपा कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया
ईडी ने मुख्यमंत्री के जमानत आदेश को अदालत की वेबसाइट पर अपलोड होने से पहले ही चुनौती दे दी: सुनीता
केजरीवाल की जमानत को उच्च न्यायालय में ईडी ने दी चुनौती
भाजपा के सांसद सांसद भर्तृहरि महताब लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर बनाये गये
योग का दुनिया भर में विस्तार, योग से जुड़ी धारणाएं बदली हैं : मोदी
योग का दुनिया भर में विस्तार, योग से जुड़ी धारणाएं बदली हैं : मोदी
नीट पेपर लीक मामले में आरोपियों ने कबूला, एक दिन पहले मिल गया था प्रश्न पत्र

एमडीबी को अधिक मजबूत और सशक्त बनाने पर जोर : सीतारमण

नई दिल्ली, 09 सितंबर : भारत की अध्यक्षता में जी-20 देशों ने बहुस्तरीय विकास बैंकों (एमडीबी) को अधिक सशक्त और मजबूत बनाने पर जोर दिया है ताकि 21वीं सदी में विकासशील देशों, विशेष रूप से सबसे गरीब और सबसे कमजोर देशों को विकास की धारा में लाने में मदद की जा सके।

जी-20 देशों के राष्ट्राध्यक्षों के शिखर सम्मेलन के साथ ही आज यहां हुयी फाइनेशियल ट्रैक की बैठक तथा नई दिल्ली घोषणापत्र में इस संबंध में किये गये उल्लेख का हवाला देते हुये वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि एमडीबी को सशक्त और मजबूत बनाने पर जोर दिया गया है। उन्होंने कहा, “हम ऑपरेटिंग मॉडल को बढ़ाकर, जवाबदेही और पहुंच में सुधार करके और विकास प्रभाव को अधिकतम करने के लिए वित्तपोषण क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि करके बेहतर, बड़े और अधिक प्रभावी एमडीबी देने के लिए काम कर रहे हैं। विकास के लिए अरबों से खरबों डॉलर की लंबी छलांग लगाने के लिए सभी स्रोतों से वित्तपोषण जुटाने के हमारे प्रयासों के लिए मजबूत एमडीबी महत्वपूर्ण होंगे। हम अधिक प्रभावी, विश्वसनीय, जवाबदेह और वैध संस्थान प्रदान करने के लिए वैश्विक अंतरराष्ट्रीय आर्थिक और वित्तीय संस्थानों में निर्णय लेने में विकासशील देशों के प्रतिनिधित्व और आवाज को बढ़ाने की आवश्यकता को रेखांकित करते हैं।”

उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय वित्त प्रणाली को विकासशील देशों और ईएमई को गरीबी से लड़ने, वैश्विक चुनौतियों से निपटने और विकास प्रभाव को अधिकतम करने में मदद करने के लिए काफी अधिक वित्तपोषण प्रदान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत निम्न और मध्यम आय वाले देशों की विकास आवश्यकताओं को संबोधित करने पर निरंतर ध्यान देने के साथ 21वीं सदी की वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए एमडीबी को विकसित और मजबूत करने के महत्वाकांक्षी प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

श्रीमती सीतारमण ने कहा, “हम एमडीबी की पूंजी पर्याप्तता फ्रेमवर्क (सीएएफ) की जी-20 स्वतंत्र समीक्षा की सिफारिशों को लागू करने के लिए जी-20 रोडमैप का समर्थन करते हैं और एमडीबी के अपने शासन ढांचे के भीतर उनकी दीर्घकालिक वित्तीय स्थिरता, मजबूत क्रेडिट रेटिंग की सुरक्षा करते हुए इसके महत्वाकांक्षी कार्यान्वयन का आह्वान करते हैं। हम एमडीबी, विषय विशेषज्ञों और शेयरधारकों के साथ बातचीत सहित क्रमिक आधार पर कार्यान्वयन की प्रगति की नियमित समीक्षा का भी आह्वान करते हैं। हम सीएएफ सिफारिशों को लागू करने में उनकी प्रगति के लिए एमडीबी की सराहना करते हैं, विशेष रूप से जोखिम उठाने की क्षमता और वित्तीय नवाचार की परिभाषाओं को अपनाने के संबंध में। हम वैश्विक उभरते बाजारों (जीईएम) डेटा को समय पर जारी करने और 2024 की शुरुआत में एक स्टैंड-अलोन इकाई के रूप में जीईएम 2.0 के लॉन्च पर एमडीबी के बीच चल रहे सहयोग की सराहना करते हैं। हम एमडीबी को हाइब्रिड पूंजी जैसे क्षेत्रों में सहयोग करने के लिए भी प्रोत्साहित करते हैं।”

उन्होंने कहा कि एमडीबी, क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों और शेयरधारकों के बीच बातचीत सराहना योग्य है। सूचना और रेटिंग पद्धतियों के आदान-प्रदान में निरंतर पारदर्शिता को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा,“ हम इस बात पर ध्यान देते हैं कि प्रारंभिक सीएएफ उपाय, जिनमें कार्यान्वयन और विचाराधीन उपाय भी शामिल हैं, संभावित रूप से अगले दशक में लगभग 200 अरब डॉलर की अतिरिक्त ऋण देने की गुंजाइश पैदा कर सकते हैं, जैसा कि जी20 सीएएफ रोडमैप में अनुमान लगाया गया है। हमें सीएएफ कार्यान्वयन पर निरंतर और आगे के लिए अतिरिक्त प्रोत्साहन देने की आवश्यकता होगी।”

नई दिल्ली घोषणापत्र में इसको लेकर कहा गया है, “हम एमडीबी से अपने दृष्टिकोण, प्रोत्साहन संरचनाओं, परिचालन दृष्टिकोण और वित्तीय क्षमताओं को विकसित करने के लिए व्यापक प्रयास करने का आह्वान करते हैं ताकि वे अपने जनादेश के अनुरूप रहते हुए वैश्विक चुनौतियों की एक विस्तृत श्रृंखला को संबोधित करने में अपने प्रभाव को अधिकतम करने के लिए बेहतर ढंग से सुसज्जित हों। सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) की दिशा में प्रगति में तेजी लाने की प्रतिबद्धता जतायी गयी है।”

श्रीमती सीतारमण ने कहा, “21वीं सदी के लिए एमडीबी पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करने और विकसित करने की तत्काल आवश्यकता को पहचानते हुए, हम रिपोर्ट के खंड 01 को तैयार करने में एमडीबी को मजबूत करने पर जी-20 स्वतंत्र विशेषज्ञ समूह के प्रयासों की सराहना करते हैं और अक्टूबर में अपेक्षित खंड 02 के संयोजन में इसकी जांच की उम्मीद करते हैं। हम खंड 01 की सिफारिशों पर ध्यान देते हैं और एमडीबी की प्रभावशीलता को बढ़ाने की दृष्टि से उचित समय पर अपने शासन ढांचे के भीतर इन सिफारिशों को प्रासंगिक और उचित मानते हुए चर्चा करने का विकल्प चुन सकते हैं। हम एमडीबी की वित्तीय क्षमता को मजबूत करने पर अक्टूबर 2023 में चौथे जी-20 एफएमसीबीजी के मौके पर आगामी जी-20 उच्च स्तरीय सेमिनार में इस पर चर्चा करेंगे।”

उन्होंने कहा,“ विकास की जरूरतों और वैश्विक चुनौतियों को पूरा करने के लिए निवेश को बढ़ाने के लिए निवेश पर बड़े पैमाने पर जोर देने की आवश्यकता है और इस संदर्भ में आईएमएफ और विश्व बैंक से अन्य प्रासंगिक अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के साथ समन्वय में, ईएमडीई में घरेलू संसाधन जुटाने के प्रयासों का समर्थन करने के लिए उम्मीद करते हैं। हम एमडीबी से अपने विकास प्रभाव को अधिकतम करने के लिए नवीन वित्तपोषण मॉडल और नई साझेदारियों के माध्यम से निजी पूंजी का लाभ उठाने का आह्वान करते हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top