Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

एक्सपीओसैट मिशन के साथ इसरो ने नए साल 2024 का किया शानदार आगाज

श्रीहरिकोट, 01 जनवरी: वर्ष 2023 में चांद के दक्षिणी ध्रुव पर यान को उतार कर इतिहास रचने के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने नए साल 2024 का आगाज शानदार तरीके से किया है।

इसरो ने सोमवार सुबह नौ बजर 10 मिनटर पर एक्स-रे पोलारिमीटर सैटेलाइट (एक्सपीओसैट) का 10 अन्य पेलोड के साथ प्रक्षेपण किया। इसरो के मुताबिक एक्सपीओसैट और 10 अन्य वैज्ञानिक पेलोड ले जाने वाले ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान-डीएल (पीएसएलवी-डीएल) के प्रक्षेपण के लिए 25 घंटे की उलटी गिनती रविवार सुबह 8.10 बजे शुरू हुई और सुचारु रूप से चली। सुबह 9.10 बजे खगोल विज्ञान के सबसे बड़े रहस्यों में से एक ब्लैक होल के बारे में जानकारी जुटाने के लिए पीएसएलवी-सी58 कोड वाला भारतीय रॉकेट पीएसएलवी-डीएल संस्करण (44.4 मीटर लंबा और 260 टन वजनी) न् आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) के पहले लॉन्च पैड से एक्सपीओसैट के साथ उड़ान भरी। यह उड़ान के लगभग 21 मिनट बाद, रॉकेट लगभग 650 किलोमीटर की ऊंचाई पर एक्‍सपोसैट की परिक्रमा करेगा।

इसके बाद ऑर्बिटल प्लेटफ़ॉर्म (ओपी) प्रयोगों के लिए 3-अक्ष स्थिर मोड में बनाए रखने के लिए कक्षा को 350 किमी गोलाकार कक्षा में कम करने के लिए रॉकेट के चौथे चरण को दो बार फिर से शुरू किया जाएगा।

इस सफल मिशन के बाद वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए इसरो के अध्यक्ष एस.सोमनाथ ने कहा, “पीएसएलवी-सी58/एक्सपीओसैट मिशन पूरा हो गया।”

उन्होंने कहा, “सभी को नए साल की शुभकामनाएं। एक और पीएसएलवी मिशन सफलतापूर्वक पूरा किया गया और 650 किमी की कक्षा में स्थापित किया गया।” उन्होंने कहा, “कक्षा में पहुंचने में कुछ और समय (लगभग 4,000 सेकंड) लगेगा। वैज्ञानिक प्रयोगों के लिए पीओईएम-3 का दो बार प्रयोग करके प्रक्षेपण यान के चौथे चरण में पीएस4 इंजन को बंद करके और फिर चालू करके 350 किमी तक कम किया जाएगा।” उन्होंने कहा, ‘हम वास्तव में खुश हैं और हमारा आने वाला समय रोमांचक होने वाला है।’

वहीं, मिशन निदेशक जयकुमार ने मिशन की सफलता पर खुशी जताई। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया कि पीएसएलवी ऑर्बिटल एक्सपेरिमेंटल मॉड्यूल -3 (पीओईएम-3) प्रयोग को इसरो और भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (आईएन-स्‍पेस) द्वारा आपूर्ति किए गए 10 पहचाने गए पेलोड के उद्देश्य को पूरा करते हुए निष्पादित किया जाएगा। इसके सामान्य विन्यास के अनुसार, पीएसएलवी एक चार-चरण/इंजन व्यय योग्य रॉकेट है, जो ठोस और तरल ईंधन द्वारा संचालित होता है। वैकल्पिक रूप से प्रारंभिक उड़ान क्षणों के दौरान उच्च जोर देने के लिए पहले चरण पर छह बूस्टर मोटर्स लगे होते हैं।

इसरो के पास पांच प्रकार के पीएसएलवी रॉकेट हैं – स्टैंडर्ड, कोर अलोन, एक्सएल, डीएल और क्यूएल। उनके बीच मुख्य अंतर स्ट्रैप-ऑन बूस्टर का उपयोग है, जो बदले में काफी हद तक परिक्रमा करने वाले उपग्रहों के वजन पर निर्भर करता है।

पीएसएलवी क्रमशः पीएसएलवी-एक्सएल, क्यूएल और डीएल वेरिएंट में पहले चरण द्वारा प्रदान किए गए जोर को बढ़ाने के लिए 6,4,2 ठोस रॉकेट स्ट्रैप-ऑन मोटर्स का उपयोग करता है। हालांकि, कोर-अलोन संस्करण (पीएसएलवी-सीए) में स्ट्रैप-ऑन का उपयोग नहीं किया जाता है। एक्‍सपोसैट आकाशीय स्रोतों से एक्स-रे उत्सर्जन के अंतरिक्ष-आधारित ध्रुवीकरण माप में अनुसंधान करने वाला इसरो का पहला समर्पित वैज्ञानिक उपग्रह है। उपग्रह विन्यास को आईएमएस-2 बस प्लेटफ़ॉर्म से संशोधित किया गया है। मेनफ्रेम सिस्टम का विन्यास आईआरएस उपग्रहों की विरासत के आधार पर तैयार किया गया है। इसमें दो पेलोड हैं, यानी पोलिक्‍स (एक्स-रे में पोलारिमीटर उपकरण) और एक्सएसपेक्‍ट (एक्स-रे स्पेक्ट्रोस्कोपी और टाइमिंग)। पोलिक्‍स को रमण रिसर्च इंस्टीट्यूट और एक्सएसपेक्‍ट को राव सैटेलाइट सेंटर (यूआरएससी) यू.आर. के स्पेस एस्ट्रोनॉमी ग्रुप द्वारा साकार किया गया है।

इसरो के अनुसार एक्‍सपोसैट के तीन उद्देश्य हैं। इसका पहला उदेश्य पोलिक्‍स पेलोड द्वारा थॉमसन स्कैटरिंग के माध्यम से लगभग 50 संभावित ब्रह्मांडीय स्रोतों से निकलने वाले ऊर्जा बैंड 8-30केईवी में एक्स-रे के ध्रुवीकरण को मापना है। वहीं दूसरा उदेश्य एक्‍सपोसैट पेलोड द्वारा ऊर्जा बैंड 0.8-15केवी में ब्रह्मांडीय एक्स-रे स्रोतों के दीर्घकालिक वर्णक्रमीय और अस्थायी अध्ययन करना है, जबकि तीसरा उदेश्य पॉलिक्‍स द्वारा ब्रह्मांडीय स्रोतों से एक्स-रे उत्सर्जन के ध्रुवीकरण और स्पेक्ट्रोस्कोपिक माप को पूरा करने के लिए और सामान्य ऊर्जा बैंड में क्रमशः एक्‍सएसपेक्‍ट पेलोड। छह सौ पचास किमी में एक्‍सपोसैट की परिक्रमा करने के बाद रॉकेट के चौथे चरण – पीएस4 चरण – को फिर से दो बार शुरू करके 350 किमी, लगभग 9.6 डिग्री की कक्षा में उतारा जाएगा।

भविष्य में नियोजित वायुमंडल के दोबारा प्रवेश प्रयोगों में पीएस4 चरण की सुरक्षा को सक्षम करने के अग्रदूत के रूप में पीएस4 में बचे हुए प्रणोदक को मुख्य इंजनों के माध्यम से निपटाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top