Headline
दिल्ली आबकारी नीति घोटाला : बीआरएस नेता के कविता ने दिल्ली की अदालत से जमानत मांगी
टुकड़े-टुकड़े गैंग का नेतृत्व करने वाले लोग दिल्ली वालों के प्रति कितने जिम्मेदार होंगे- मनोज तिवारी
आप नेताओं को जेल भेजने से उनका मनोबल और मजबूत हुआ : संजय सिंह
केजरीवाल की याचिका पर ईडी को नोटिस, सुप्रीम कोर्ट 29 को करेगा अगली सुनवाई
मणिपुर के मुख्यमंत्री को क्यों बर्खास्त नहीं किया गया : कांग्रेस
पीएम मोदी का राहुल पर तंज कहा- यूपी में खानदानी सीट बचाना मुश्किल हुआ तो केरल में बनाया नया ठिकाना
सतुआन पर सुलतान पोखर में दर्जनों बच्चों का हुआ मुंडन संस्कार
‘भाजपा के घोषणा पत्र में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी को हटाने का जिक्र नहीं’, तेजस्वी यादव का दावा
रीवा में 44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान

इसरो ने 70 किलोमीटर की ऊंचाई से लैंडर कैमरे से ली गई तस्वीरें जारी कीं

बेंगलुरु, 22 अगस्त : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने 19 अगस्त को लगभग 70 किलोमीटर की ऊंचाई से चंद्रयान-3 मिशन के ‘लैंडर पोजिशन डिटेक्शन कैमरे’ (एनपीडीसी) से ली गई चंद्रमा की तस्वीरें मंगलवार को जारी कीं।

इसरो ने बताया कि एलपीडीसी से ली गई तस्वीरें यान पर मौजूद चंद्रमा के संदर्भ मानचित्र के साथ मिलान करके इसकी स्थिति (अक्षांश और देशांतर) निर्धारित करने में मिशन के लैंडर मॉड्यूल (एलएम) की सहायता करती हैं। एलएम के बुधवार को चंद्रमा की सतह पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ करने की उम्मीद है।

इसरो ने ‘लैंडर हजार्ड डिटेक्शन एंड एवाइडेंस कैमरा’ (एलएचडीएसी) से ली गई चंद्रमा के सुदूर पार्श्व भाग की तस्वीरें सोमवार को जारी की थीं।

अहमदाबाद स्थित ‘अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र’ (एसएसी) द्वारा विकसित यह कैमरा नीचे उतरते समय ऐसे सुरक्षित ‘लैंडिंग’ क्षेत्र का पता लगाने में सहायता करता है, जहां चट्टानें या गहरी खाइयां न हों। एसएसी इसरो का प्रमुख अनुसंधान एवं विकास केंद्र है।

इसरो के अनुसार, चंद्रयान-3 मिशन के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए लैंडर में एलएचडीएसी जैसी कई उन्नत प्रौद्योगिकियां हैं।

चंद्रयान-2 की असफलता के बाद चंद्रयान-3 को 14 जुलाई को प्रक्षेपित किया गया था। चंद्रयान-तीन को चंद्रमा की सतह पर सफलता से उतरने और विचरण करने की क्षमताओं को प्रदर्शित करने के लिए भेजा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top