Headline
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर डीयू में एक हजार लोगों ने किया सामूहिक योगाभ्यास
दिल्ली जल संकट: हरियाणा से अधिक पानी की मांग के लिए आतिशी ने शुरू की भूख हड़ताल
दिल्ली कांग्रेस ने नीट ‘पेपर लीक’ को लेकर भाजपा कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया
ईडी ने मुख्यमंत्री के जमानत आदेश को अदालत की वेबसाइट पर अपलोड होने से पहले ही चुनौती दे दी: सुनीता
केजरीवाल की जमानत को उच्च न्यायालय में ईडी ने दी चुनौती
भाजपा के सांसद सांसद भर्तृहरि महताब लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर बनाये गये
योग का दुनिया भर में विस्तार, योग से जुड़ी धारणाएं बदली हैं : मोदी
योग का दुनिया भर में विस्तार, योग से जुड़ी धारणाएं बदली हैं : मोदी
नीट पेपर लीक मामले में आरोपियों ने कबूला, एक दिन पहले मिल गया था प्रश्न पत्र

आदिपुरुष में रामायण के पात्रों को शर्मनाक ढंग से दर्शाया गया : इलाहबाद हाई कोर्ट

नई दिल्ली, 29 जून: इलाहबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ ने बुधवार को विवादास्पद बॉलीवुड फिल्म ‘आदिपुरुष’ के फिल्म निर्माताओं को यह कहते हुए फटकार लगाई कि इसमें रामायण के पात्रों को ‘बड़े शर्मनाक तरीके से’ दर्शाया गया है.

आदिपुरुष’ पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने कहा कि रामायण, कुरान या बाइबिल पर विवादित फिल्में बनाई ही क्यों जाती हैं, जो लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाती हों.

जस्टिस राजेश सिंह चौहान और जस्टिस श्री प्रकाश सिंह ने फिल्म निर्माताओं से सवाल करते हुए कहा कि अगर आप लोग कुरान के ऊपर एक डॉक्युमेंट्री बनाते हैं और उसमे सारी चीज़ें गलत तरीके से दिखाते हैं तो देखिए कि फिर क्या होता है. ये तो बस एक संयोग है की ये मामला हिन्दू धर्म (रामायण) से जुड़ा है नहीं तो कोर्ट की भावनाएं हर धर्म से जुड़ी है.

कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर आज हम चुप रहे तो ये नहीं पता कि आगे क्या होगा. ऐसी घटनाएं दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. उन्होंने कहा, “मैंने खुद इस पिक्चर में देखा है कि भगवन शंकर बड़े ही हास्यास्पद तरीके से हाथ में त्रिशूल ले कर भाग रहे हैं. क्या अब यही सारी चीज़ें दिखाई जाएंगी? क्या ये रुकना नहीं चाहिए?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top