Headline
सतुआन पर सुलतान पोखर में दर्जनों बच्चों का हुआ मुंडन संस्कार
‘भाजपा के घोषणा पत्र में महंगाई, बेरोजगारी और गरीबी को हटाने का जिक्र नहीं’, तेजस्वी यादव का दावा
रीवा में 44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान
भोजपुरी स्टार खेसारी यादव ने शेयर किया अपने अपकमिंग सॉन्ग ‘पातर तिरिया’ का पोस्टर
शाहिद व ईशान ने शेयर की अपने ‘संडे वर्कआउट’ की झलक
एक्‍ट्रेस अनीता हसनंदानी के 43वें जन्मदिन पर पति ने लिखा प्‍यार भरा नोट
एलआईसी को अडाणी के शेयरों में निवेश पर हुआ 59 प्रतिशत का लाभ
आंबेडकर की जयंती पर आप नेताओं ने पढ़ी संविधान की प्रस्तावना
भाजपा ने लोकसभा चुनावों का संकल्प पत्र ‘मोदी की गारंटी 2024’ जारी किया

आज विश्व को विकासशील देशों पर अधिक ध्यान देने की जरूरतः विदेश मंत्री

नई दिल्ली, 27 अगस्त: विदेशमंत्री डॉ. एस जयशंकर ने रविवार को जी-20 देशों के बिजनेस समूह (बी-20) के सम्मेलन में कहा कि आज दुनिया को विकासशील देशों पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है। कोविड महामारी ने हमें यह दिखाया है कि वैश्विक उत्तर और वैश्विक दक्षिण में अंतर बरकरार है।

उन्होंने कहा कि वैश्विक व्यवस्था अब तक वैश्विक उत्तर के प्रभुत्व में रही है। यह जी-20 के स्वरूप में भी दिखाई देता है। जी-20 के अध्यक्ष के नाते भारत ने कोशिश की है कि वैश्विक दक्षिण की आवाज सुनी जाए। इसके लिए भारत ने वैश्विक दक्षिण शिखर सम्मेलन का जनवरी में आयोजन किया। इससे हमें विकासशील देशों की चुनौतियों और प्राथमिकताओं को जानने का अवसर मिला। भारत ने इन्हीं को जी-20 का केन्द्रीय एजेंडा बनाया है।

उन्होंने कहा कि जी-20 का मानना है कि आर्थिक विकास और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए वैश्विक दक्षिण की प्रमुख चिंताओं को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। अब तक वैश्विक दक्षिण को केवल उपभोक्ता के तौर पर भी देखा जा रहा है न की उत्पादक के तौर पर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top