Headline
बिहार में 26 जून से होने वाली शिक्षक सक्षमता परीक्षा स्थगित, जल्द घोषित की जाएगी नई तिथि
निष्पक्षता से प्रश्न पत्र लीक मामले की हो जांच, नहीं तो राजद करेगी खुलासा : तेजस्वी
बिहार के सीवान जिले में गंडक नहर पर बना 30 फीट लंबा पुल गिरा
बिहार की आर्थिक अपराध इकाई ने केंद्र को सौंपी नीट पेपर लीक मामले की रिपोर्ट
मुख्यमंत्री ने दो दिवसीय आम महोत्सव-2024 का किया उद्घाटन
भारत-बंगलादेश गंगा जल संधि की समीक्षा करेंगे, बंग्लादेशी नागरिकों को इलाज के लिए ई-वीजा मिलेगा
जल संकट को लेकर आतिशी का अनिश्चितकालीन अनशन दूसरे दिन भी जारी
एंटी पेपर लीक कानून लागू, आधी रात को नोटिफिकेशन, 10 साल जेल, 1 करोड़ का जुर्माना
हसीना का राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत

विदेश मंत्री जयशंकर ने की नेपाल के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मुलाकात

काठमांडू/नई दिल्ली, 04 जनवरी : विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर दो दिवसीय काठमांडू दौरे पर हैं। आज उन्होंने राष्ट्रपति रामचन्द्र पौडेल और प्रधानमंत्री पुष्प कमल दाहाल ‘प्रचण्ड’ से मुलाकात की।

विदेश मंत्री ने सोशल मीडिया पोस्ट में बताया कि उन्होंने राष्ट्रपति पौडेल से मुलाकात के दौरान उन्हें राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की ओर से भेजा शुभकामना संदेश उन्हें दिया। उनका मार्गदर्शन और भावनाएँ मजबूत और व्यापक भारत-नेपाल संबंधों के लिए प्रेरणादायक हैं।

नेपाल के प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान उन्हें प्रधानमंत्री मोदी का शुभकामना संदेश दिया। उन्होंने सोशल मीडिया पर कहा कि बातचीत के दौरान पिछले मई में उनकी सफल भारत यात्रा, जिससे हमारे संबंधों को नई गति मिली, की चर्चा के साथ ही उसके बाद हुई अन्य बैठकों और आज होने वाली संयुक्त आयोग की बैठक पर भी चर्चा हुई। भारत और नेपाल की दोस्ती वाकई खास है और हमारी साझेदारी दिन-ब-दिन मजबूत होती जा रही है।

विदेश मंत्री आज अपने समकक्ष के साथ भारत-नेपाल संयुक्त आयोग की 7वीं बैठक की सह-अध्यक्षता करेंगे। विदेश मंत्रालय के अनुसार भारत-नेपाल संयुक्त आयोग की स्थापना 1987 में की गई थी और यह दोनों मंत्रियों को द्विपक्षीय साझेदारी के सभी पहलुओं की समीक्षा करने के लिए एक मंच प्रदान करती है। यात्रा के दौरान विदेश मंत्री नेपाल के नेतृत्व और प्रमुख राजनीतिक हस्तियों से मुलाकात करेंगे।

उल्लेखनीय है कि ‘पड़ोसी प्रथम’ नीति के तहत नेपाल भारत का प्राथमिक भागीदार है। यह यात्रा दो करीबी और मैत्रीपूर्ण पड़ोसियों के बीच उच्च स्तरीय आदान-प्रदान की परंपरा के अनुरूप है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top