Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

विदेश जाने से पहले मणिपुर संकट पर चुप्पी तोड़े मोदी : कांग्रेस

नई दिल्ली, 19 जून: पिछले 49 दिन से हिंसा में जल रहे मणिपुर को लेकर कांग्रेस ने उम्मीद जताई है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश दौरे पर जाने से पहले इस संकट के समाधान को लेकर चुप्पी तोड़ेंगे।

कांग्रेस महासचिव संगठन केसी वेणुगोपाल ने सोमवार को यहां एक बयान में कहा कि मणिपुर पिछले 49 दिन से हिंसा की चपेट में है और 50वें दिन श्री मोदी विदेश यात्रा पर जा रहे हैं इसलिए पार्टी को उम्मीद है कि वह मणिपुर में शांति बहाली पर मौन तोड़ेंगे और संकट के समाधान के लिए जरूरी कदम उठाएंगे।

उन्होंने सवाल किया, “मणिपुर 49 दिनों से जल रहा है। 50वें दिन क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस संकट पर एक शब्द भी बोले बिना विदेश चले जाएंगे। सैकड़ों लोग मारे गए, हजारों बेघर हो गए, अनगिनत चर्च और पूजा स्थल नष्ट हो गए और संकटग्रस्त राज्य का प्रशासन समस्या का समाधान नहीं निकाल पा रहा है। मामला अब और भी बदतर बनाता जा रहा है और हिंसा अब मिजोरम में भी फैल रही है।”

कांग्रेस नेता ने कहा, “पिछले कई दिनों से मणिपुरी मामले में प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप करने के लिए समय मांग रहे हैं लेकिन मोदी सरकार की उपेक्षा का हर गुजरता दिन इस विश्वास की पुष्टि करता है कि श्री मोदी और उनके नेतृत्व वाली भाजपा मणिपुर संकट का समाधान खोजने के बजाय संघर्ष को लंबा करने में रुचि रखते हैं। सवाल है कि स्वयंभू विश्वगुरु कब सुनेंगे मणिपुर की बात। शांति की सीधी-सादी अपील करने के लिए वे देश से कब बात करेंगे। वे कब केंद्रीय गृह मंत्री और मणिपुर के मुख्यमंत्री से शांति स्थापित करने में पूरी तरह विफल रहने के लिए जवाबदेही की मांग करेंगे।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top