Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

ये भाजपा और सड़क पर चल रहे किसी बच्चे को भी पता है कौन विपक्ष के विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रहा है : आतिशी

नई दिल्ली, 04 फरवरी: दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने कहा कि कल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आज मुझे दिल्ली क्राइम ब्रांच की ओर से नोटिस दिया गया है। यह नोटिस क्राइम ब्रांच के राजनीतिक आका यानी भारतीय जनता पार्टी द्वारा भेजा गया है। इसमें पूछा गया है कि आम आदमी पार्टी के विधायकों से किन लोगों ने संपर्क किया है। इस पर आतिशी ने कहा कि जिन्होंने गोवा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में विपक्ष के विधायकों से संपर्क कर उन्हें डरा कर पैसों का लालच देकर तोड़ा और भाजपा में शामिल किया। उन्हीं लोगों ने आम आदमी पार्टी के विधायकों से संपर्क किया।

कहा कि यह भारतीय जनता पार्टी और सड़क पर चल रहे बच्चे को भी पता है कि कौन लोग हैं जो विपक्ष के विधायकों से संपर्क कर उन्हें तोड़ रहे हैं। आतिशी ने किसी का नाम नहीं बताया। उन्होंने उन विधायकों का नाम भी नहीं बताया जिन्हें भाजपा के लोग संपर्क कर 25-25 करोड़ रुपए का ऑफर देकर तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

दिल्ली सरकार में शिक्षा मंत्री आतिशी ने कहा कि जो क्राइम ब्रांच के अफसर नोटिस देने आए थे। हमें उन पर दया आती है कि जब वह पुलिस में आए तो सोचा होगा कि महिलाओं की सुरक्षा करेंगे। देश के लिए कुछ करेंगे। उनके राजनीतिक आकाओं ने उन्हें टीवी के प्राइम शो का सामग्री बनाकर छोड़ दिया है। कल चार घंटे की नौटंकी के बाद अरविंद केजरीवाल को नोटिस दिया गया। आज सुबह मेरे घर आकर भी नोटिस दिया गया।

नोटिस में कोई आईपीसी, सीआरपीसी या कोई अन्य धारा नहीं

यह नोटिस है या समन है। इसमें कोई आईपीसी, सीआरपीसी या कोई अन्य धारा नहीं है। यह पुलिस वालों की गलती नहीं है। उनके राजनीतिक आका हमसे कुछ सवाल पूछना चाहते हैं। वे लोग हमसे पूछना चाहते हैं कि किसने आम आदमी पार्टी के विधायकों को ऑफर दिया। मैं दिल्ली पुलिस के राजनीतिक आकाों को बताना चाहती हूं कि किसने आम आदमी पार्टी के नेताओं को करोड़ों रुपए के ऑफर दिए। ये वही लोग हैं जिन्होंने 2016 में उत्तराखंड में कांग्रेस के विधायकों को तोड़कर बीजेपी में शामिल किया था। उन्होंने ही आम आदमी पार्टी के विधायकों को संपर्क किया।

जुलाई 2019 में गोवा में 17 में से 14 कांग्रेस को छोड़कर बीजेपी में चले गए थे। बीजेपी के जिन लोगों ने गोवा के इन विधायकों से संपर्क किया था। वही लोग आम आदमी पार्टी के विधायकों के पास आए। मैं 2018 में कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस की सरकार बनी। एचडी कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बने जुलाई 2019 में कांग्रेस और जेडीएस के 17 विधायक टूटकर भारतीय जनता पार्टी में चले गए। जो लोग उन 17 विधायकों को धमकी और पैसा देने आए थे वही लोग आम आदमी पार्टी के विधायकों के पास आए। मैं क्राइम ब्रांच के राजनीतिक आकाओं को बताना चाहती हूं कि आपको भी पता है कौन लोग हैं जो पिछले 8 साल से एक-एक करके अपोजिशन की सरकारों को तोड़ रहे हैं। वही लोग हैं आम आदमी पार्टी के विधायकों से संपर्क कर रहे हैं।

बेहतर होगा कि पुलिस को अपराध रोकने का काम करने दिया जाए

आम आदमी पार्टी के नेता जैस्मिन शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर जब क्राइम ब्रांच के दर्जन भर अधिकारी खड़े थे। उनकी टीम पहुंचने से पहले सारी मीडिया पहुंच चुकी थी। मीडिया को भाजपा ने बताया। भाजपा को पता चल जाता है कि क्राइम ब्रांच मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचने वाली है। आज मंत्री आतिशी के यहां भी एक दर्जन क्राइम ब्रांच के अधिकारियों के पहुंचने से पहले दो दर्जन से अधिक मीडिया वाले पहुंच जाते हैं। कल 5 घंटे क्राइम ब्रांच के अधिकारी अपना सारा काम छोड़कर मुख्यमंत्री आवास के सामने खड़े रहते हैं और कहते हैं कि हमें मुख्यमंत्री से मिलना है। मैंने अधिकारियों से पूछा कि किस धारा के तहत यह नोटिस मुख्यमंत्री को हाथ में सौपना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया के सामने बात नहीं करूंगा अंदर बात करूंगा। यदि कानून के तहत कोई काम कर रहे हैं तो मीडिया के सामने बताने में डर क्यों रहे हैं। इसका कोई जवाब नहीं दिया। 5 घंटे बाद यही नोटिस मुख्यमंत्री आवास के बाहर देकर चले जाते हैं। दिल्ली में अपराध बढ़ रहे हैं। लेकिन दिल्ली पुलिस बीजेपी के आदेश पर नोटिस देने का काम कर रही है। मेरा दिल्ली पुलिस के राजनीतिक आकाओं से अनुरोध है कि दिल्ली पुलिस को दिल्ली के लोगों की सुरक्षा के लिए काम करने दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top