Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

महाराष्ट्र : नांदेड़ सरकारी अस्पताल में एक से दो अक्टूबर के बीच सात और मरीजों की मौत

औरंगाबाद (महाराष्ट्र), 03 अक्टूबर: महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक सरकारी अस्पताल में 24 घंटे की अवधि में 24 मरीजों की मौत का मामला सामने के एक दिन बाद अधिकारियों ने मंगलवार को इस बात की पुष्टि की कि एक और दो अक्टूबर के बीच इसी अस्पताल में सात और मरीजों की मौत हुई।

यहां से करीब 280 किलोमीटर दूर स्थित नांदेड़ के जिला सूचना कार्यालय (डीआईओ) ने सोशल मीडिया मंच पर इस बात की पुष्टि की। इसके साथ ही पिछले 48 घंटे में मृतक संख्या बढ़कर 31 हो गई है।

महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने सोमवार को कहा कि इससे पहले नांदेड़ में डॉ. शंकरराव चव्हाण सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (जीएमसीएच) में 30 सितंबर से एक अक्टूबर के बीच 24 मरीजों की मौत की सूचना थी। इन 24 मरीजों में से 12 नवजात शामिल थे।

नांदेड़ डीआईओ ने सोशल मीडिया पोस्ट में बताया, ”डॉ. शंकरराव चव्हाण सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में मरीजों की मौत से जुड़े तथ्य इस प्रकार हैं: 30 सितंबर से एक अक्टूबर के बीच 24 मौतें; एक से दो अक्टूबर के बीच सात मौतें। कृपया घबराएं नहीं। चिकित्सकों की एक टीम तैयार है।”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने मंगलवार सुबह माइक्रोब्लॉगिंग साइट ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ”नांदेड़ के अस्पताल में मौत का सिलसिला लगातार जारी है। सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में कल तक (दो अक्टूबर तक) चार बच्चों समेत सात और मरीजों की मौत हुई।”

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने मांग की, ”राज्य सरकार को इसके लिए जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराना चाहिए।”

महाराष्ट्र के चिकित्सा शिक्षा मंत्री हसन मुशरिफ मंगलवार को नांदेड़ में जीएमसीएच का दौरा करेंगे। जिले के एक अधिकारी ने बताया कि अस्पताल का दौरा करने के बाद वह संवाददाता सम्मेलन को भी संबोधित करेंगे।

सोमवार को जारी अपने आधिकारिक बयान में नांदेड़ जिला कलेक्ट्रेट ने कहा था कि 30 सितंबर से एक अक्टूबर के बीच अस्पताल में कुल 24 मरीजों की मौत की सूचना है।

बयान में कहा गया है, ”जान गंवाने वाले 12 वयस्कों में से पांच पुरुष और सात महिला मरीज शामिल थीं। चार वयस्कों को दिल से संबंधित बीमारी थी, एक मरीज किसी अज्ञात विषाक्तता से पीड़ित था। एक मरीज को लीवर संबंधी समस्या थी, दो गुर्दे के मरीज थे और एक मरीज को गर्भावस्था के दौरान की जटिलताएं थीं। दुर्घटना के सात मामले थे।”

कलेक्ट्रेट के बयान के अनुसार, जिन शिशुओं की मौत हुई है, उनमें से चार को आखिरी समय में अस्पताल लाया गया था।

इसी तरह के एक मामले में 12 और 13 अगस्त 2023 को 24 घंटे के दौरान ठाणे जिले के कालवा में छत्रपति शिवाजी महाराज अस्पताल में 18 मरीजों की जान चली गई थी, जिसके बाद विपक्षी दलों ने एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार पर सवाल उठाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top