Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

बिहार नगर निगम चुनाव : 805 पदों के लिए मतगणना जारी

पटना, 11 जून : बिहार में 31 नगर निकायों के लिए रविवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतगणना जारी है। राज्य निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि वार्ड पार्षदों, महापौरों और उप महापौरों के 805 पदों के लिए सुबह आठ बजे जिन 58 केंद्रों पर मतगणना शुरू हुई, वहां शांतिपूर्ण और निष्पक्ष मतगणना प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए सशस्त्र पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

बिहार में 31 नगर निकायों के लिए नौ जून को चुनाव हुए थे।

बिहार नगर निकाय चुनाव में इस बार कुल 4431 (पुरुष- 2197 और महिला- 2234) उम्मीदवार मैदान में हैं। नौ उम्मीदवारों को पहले ही निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया जा चुका है।

बिहार राज्य निर्वाचन आयोग (एसईसी) ने कहा कि पटना, बक्सर, रोहतास, औरंगाबाद, वैशाली, नालंदा, नवादा, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, शिवहर, सीतामढ़ी, दरभंगा, मधुबनी, किशनगंज, मुंगेर, लखीसराय, सहरसा, जमुई और बांका जिलों में मतदान हुआ।

पहली बार एसईसी ने मतदाताओं की पहचान की पुष्टि के लिए चेहरे की पहचान प्रणाली (एफआरएस) का इस्तेमाल किया।

अधिकारियों ने कहा कि 31 शहरी स्थानीय निकायों में 24 ऐसे निकाय शामिल हैं जहां दिसंबर में पिछले शहरी चुनावों में चुनाव नहीं हुए थे। अन्य सात नगर निकायों के बोर्ड का पांच साल का कार्यकाल जून में खत्म हो जाएगा। इसमें सहरसा और मधुबनी नगर निगम शामिल हैं।

इसके अलावा, शहरी स्थानीय निकायों के उन सात वार्ड में उपचुनाव हुए थे, जहां निर्वाचित प्रतिनिधियों ने दिसंबर के शहरी चुनावों के बाद पिछले कुछ महीनों में इस्तीफा दे दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top