Headline
हिप्र संकट पर जयराम रमेश का तंज, कहा- मोदी की गारंटी है कांग्रेस की सरकारों को गिराओ
रेलवे जमीन के बदले नौकरी मामला : दिल्ली की अदालत ने राबड़ी देवी और उनकी दो बेटियों को दी जमानत
उप्र का ‘रामराज्य’ दलित,पिछड़े, महिला,आदिवासियों के लिए है ‘मनुराज’ : कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर दी वैज्ञानिक समुदाय को बधाई
तमिलनाडु : औद्योगिक विकास के लिए प्रधानमंत्री का बड़ा प्रोत्साहन, शुरू की विभिन्न परियोजनाएं
वर्ष 2030 तक दुनिया में हम तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं : राष्ट्रपति मुर्मू
बिट्टु कुमार सिंह को मिला केंद्रीय विश्वविद्यालय से जनसंचार में स्नातकोत्तर की डिग्री
चंडीगढ़ महापौर चुनाव में ‘आप’ की जीत का बदला लेना चाहती है भाजपा: आतिशी
ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कई नेता गिरफ्तार

एमसीडी के स्कूलों में भी शिक्षा क्रांति आएगी : शिक्षा मंत्री आतिशी

नई दिल्ली, 30 जून: शिक्षा मंत्री आतिशी ने शुक्रवार को आईआईएम अहमदाबाद जाकर पहली बार स्कूल लीडरशिप और मैनेजमेंट की ट्रेनिंग लेने पहुँचे एमसीडी प्रिंसिपलों से बातचीत की और उनका उत्साह बढ़ाया। एमसीडी के इतिहास में पहली बार हुआ है जब इन स्कूलों के प्रिंसिपलों को ट्रेनिंग के लिए आईआईएम भेजा गया है। ऐसे में शिक्षा मंत्री का आईआईएम का दौरा करना और वहां एमसीडी स्कूलों के प्रिंसिपलों से मिलना एक बहुत ही सराहनीय कदम साबित हुआ और इससे शिक्षकों में ट्रेनिंग के लिए आत्मविश्वास और उत्साह बढ़ा है। इस मौके पर शिक्षा मंत्री आतिशी ने कहा कि दिल्ली सरकार के स्कूलों के बाद अब एमसीडी के स्कूलों में भी शिक्षा क्रांति आएगी और ये सभी प्रिंसिपल उस क्रांति के ध्वजवाहक बनेंगे।

उन्होंने प्रिंसिपलों से कहा कि, आप सभी प्रिंसिपल एमसीडी स्कूलों में पढ़ने वाले लाखों बच्चों व उनके पैरेंट्स के बेहतर भविष्य की उम्मीद है, इसलिए एक मिशन की तरह ट्रेनिंग के हर पहलू पर ध्यान दें। उन्होंने कहा कि, हमारा मानना है कि, जब एमसीडी प्रिंसिपल विश्वस्तरीय संस्थानों से सीखेंगे तभी अपने स्कूल में विश्वस्तरीय शिक्षा का वातावरण बना सकेंगे। इसलिए आप प्रिंसिपलों को ट्रेनिंग के लिए आईआईएम अहमदाबाद भेजा गया है जहाँ आपको वर्ल्ड क्लास एक्सपोज़र मिल सकेगा। शिक्षा मंत्री के साथ अपनी बातें साझा करते हुए प्रिंसिपलों ने भी कहा कि, अब से पहले किसी ने भी एमसीडी स्कूलों के शिक्षकों की बेहतरी के लिए नहीं सोचा, लेकिन अब सुविधाओं के साथ मिल रहा है पूरा मान-सम्मान इसलिए सरकार ने हमें जिस विज़न के साथ आईआईएम में ट्रेनिंग के लिए भेजा है, शिक्षा के उस विज़न को पूरा करने के लिए हम कड़ी मेहनत करेंगे और अपने स्कूलों को विश्वस्तरीय संस्थानों में तब्दील करेंगे।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि, किसी भी स्कूल के लिए प्रिंसिपल उसका अहम् हिस्सा होता है। आप प्रिंसिपल के आचार-व्यवहार और काम करने के तरीके को देखकर पता लगा सकते है कि उसका स्कूल कैसा होगा। हमने 2015 में दिल्ली में अरविन्द केजरीवाल जी की सरकार बनने के बाद जब शिक्षा पर काम करना शुरू किया तो प्रिंसिपलों की कैपेसिटी बिल्डिंग और उनका प्रोफेशनल डेवलपमेंट भी हमारा फोकस रहा। इस दिशा में हमने अपने प्रिंसिपलों को आईआईएम अहमदाबाद सहित अन्य आईआईएम से उनके लिए डिजाईन स्पेशल स्कूल लीडरशिप और मैनेजमेंट की ट्रेनिंग दिलवाई, प्रिंसिपलों को थोड़ी स्वायत्ता दी और इसके परिणाम के रूप में आप सभी आज दिल्ली सरकार के स्कूलों में आए बदलावों को देख सकते है।

उन्होंने कहा कि, एमसीडी में पिछली सरकारों ने हमेशा शिक्षकों की उपेक्षा की लेकिन ‘आप’ की सरकार में अब एमसीडी शिक्षकों को सम्मान के साथ उनके प्रोफेशनल डेवलपमेंट के लिए सभी सुविधाएँ मिलेंगी। दिल्ली सरकार के स्कूलों के बाद अब एमसीडी के स्कूलों में भी शिक्षा क्रांति आएगी। और हमारे एमसीडी स्कूलों के सभी प्रिंसिपल उस क्रांति के ध्वजवाहक बनेंगे। ये ट्रेनिंग हमारे एमसीडी स्कूलों के प्रिंसिपलों को स्कूल चलाने के दौरान रोजमर्रा आने वाली चुनातियों को अनूठे ढंग से हल करना तो सिखाएगी ही साथ ही उनके बेहतर ढंग से प्रबंधन करना भी सिखाएगी। ताकि वे एडमिनिस्ट्रेशन के साथ-साथ स्कूल के अकेडमिक वातावरण को भी बेहतर बना सकें।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि, मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल जी का विज़न है कि दिल्ली के हर बच्चे को चाहे वो किसी भी तबके से आता हो उसे विश्वस्तरीय शिक्षा मिलनी चाहिए। इसके लिए जरुरी है कि स्कूलों के शिक्षकों-प्रिंसिपल को विश्वस्तरीय संस्थानों सीखने का मौका मिले, एक्सपोज़र मिले। तभी वे अपने स्कूल में विश्वस्तरीय शिक्षा का वातावरण बना सकेंगे। इस दिशा में एमसीडी स्कूलों के प्रिंसिपलों को आईआईएम अहमदाबाद से मिली ट्रेनिंग महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। उन्होंने प्रिंसिपलों को संबोधित करते हुए कहा कि, आप सभी प्रिंसिपल एमसीडी स्कूलों में पढ़ने वाले लाखों बच्चों व उनके पैरेंट्स के बेहतर भविष्य की उम्मीद है। इसलिए एक मिशन की तरह ट्रेनिंग के हर पहलू पर अच्छे से ध्यान दे ताकि उसे अपने स्कुल में अपना सकें।

इस अवसर पर एमसीडी स्कूलों के प्रिंसिपलों ने कहा कि, अब से पहले किसी ने भी एमसीडी स्कूलों के शिक्षकों की बेहतरी के लिए नहीं सोचा था। लेकिन हमें बहुत ख़ुशी है कि सरकार द्वारा अब हमें सुविधाओं के साथ पूरा मान-सम्मान मिल रहा है। पहले हम बुनियादी सुविधाओं के लिए ही जद्दोजहद करते थे लेकिन अब हमें बेहतर ट्रेनिंग मिल रही है। प्रिंसिपलों ने कहा कि सरकार ने हमें जिस विज़न के साथ आईआईएम में ट्रेनिंग के लिए भेजा है। हम शिक्षा के उस विज़न को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे और अपने स्कूलों की विश्वस्तरीय संस्थानों में तब्दील करने का हर संभव प्रयास करेंगे जहाँ हर बच्चे के लिए क्वालिटी एजुकेशन सुनिश्चित की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली के इतिहास में पहली बार एमसीडी स्कूलों के प्रिंसिपलों को ट्रेनिंग के लिए आईआईएम अहमदाबाद भेजा गया है। एमसीडी स्कूलों के 47 प्रिंसिपलों के पहले बैच को एससीईआरटी के टीचर्स एजुकेटर्स के साथ 29 जून को 5 दिन के कैपेसिटी बिल्डिंग प्रोग्राम के लिए आईआईएम अहमदाबाद भेजा गया है। इस ट्रेनिंग के दौरान ये सभी आईआईएम अहमदाबाद के टॉप प्रोफेसरों से एमसीडी स्कूलों के लिए स्पेशल डिज़ाइन स्कूल लीडरशिप और मैनेजमेंट के गुर सीखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top